Sign Up    /    Login

Poetry

निर्मला

By Navneet Bakshi / May 22, 2021

Forty years ago (I was a young bachelor then) once roaming around in the back street of Ballard Pier (Bombay then, now Mumbai) at six in the evening, I saw one young woman running to get in the bus. She was wearing a maroon saree and was around 25~30 years old. When I came back…

Read More

Remembering Mother On Mother’s Day

By Navneet Bakshi / May 9, 2021

Remembering Mother On Mother’s Day   Rudyard Kipling said: “God could not be everywhere, and therefore he made mothers.”   Every mother loves her children. And every child adores her at least till he is a child. In some cases it lasts longer and even beyond life. My mother died young. God can’t send all…

Read More

******आना इस बार ज़रूर होली पर************ 

By Navneet Bakshi / March 24, 2021

******आना इस बार ज़रूर होली पर************                                                                                                                             ( Picture from internet) सोचा करती थी मैं कि जब हम एक संग होंगे कितने सुन्दर तब होली के रंग होंगे   यूँ तो बरसाए हैं बहुतेरों ने रंग हर होली पर लेकिन कैसा कर दिया जादू तुमने दिल पर कि मुझे अब और कोई रंग नहीं भाता रंगे मेरे मन से…

Read More

*************मेरी प्रेरणा************

By Navneet Bakshi / March 14, 2021

*************मेरी प्रेरणा************ मेरी कल्पना की परी तुम कि मेरी कल्पना के पर लुप्त हो जाती हो मुझ में ही कहीं तुम मेरी कविता को देकर स्वर प्रिय तुम उभरती हो दिल में फिर श्वासों में घुल-मिल जाती हो बनती हो तुम गीत मेरा फिर स्वयं ही उसको गाती हो मैं केवल माध्यम बन तुम्हारे अनूठे…

Read More

यह आँसू मेरे, तुम्हारे

By Navneet Bakshi / March 2, 2021

यह आँसू मेरे, तुम्हारे कितना खुशनसीब हूँ मैं, तुम्हें यह बता नहीं सकता मैं तुम्हारी ज़िंदगी में लौट कर तो आ नहीं सकता लेकिन मैं उसे खूबसूरत बना सकता हूँ और यही मैं करना चाहता हूँ   इसलिये जाने-अनजाने परछाईं बन बगल में कभी और कभी एहसास बन तुम्हारे सिरहाने रात के अंधेरों में कभी…

Read More

उंगली से शीशे पर लिखती हूँ नाम तुम्हारा

By Navneet Bakshi / February 28, 2021

  उंगली से शीशे पर लिखती हूँ नाम तुम्हारा और घबरा कर मिटा देती हूँ तुम क्या जानो मैं अपने दिल को तसल्ली किस किस तरह देती हूँ   एक तुम हो कि मेरा ख्याल भुलाए बैठे हो आँखों से दूर हो गए हो मगर दिल में समाये बैठे हो   चाहती हूँ मेरी गोदी…

Read More

Intriguing Fibonacci series in nature around us!

By Suresh Rao / September 15, 2020

Definition (Rule) for the Fibonacci number series is: ANY NUMBER IN FIBONACCI NUMBER SERIES IS SUM OF 2 LOWER NUMBERS BEFORE IT. That is, an example of Fibonacci number series can be: 0 1 1 2 3 5 8 13 21 …. and so on. It follows the rule,  a random number such as 2…

Read More

Jai Sriram

By Suresh Rao / September 12, 2020

Sri Ramji ballets are becoming popular in Bollywood. Watch one of them here.  https://www.facebook.com/zeemusiccompany/videos/373035020239109

Read More

Memoir of a Gulmohar tree

By Yash Chhabra / September 8, 2020

The most awaited month has arrived May, the month of vibrant colors It brings a wave of crimson spread My branches shine in vibrant colors Dancing to the tune of a mild breeze The Garden looks deserted in the crowd The garden appears deserted to me No one to appreciate my blossom No one caresses,…

Read More

रक्षाबंधन

By Alka Kansra / August 16, 2020

रक्षाबंधन बाल्कनी से देख रही थी बारिश की बूँदों की झड़ी बसंत गया, गर्मी गई और सावन भी आ गया संक्रमण से बेख़ौफ़ मौसम बदलते जा रहे त्योहार निकलते जा रहे होली गई , बैसाखी गई और आ गया रक्षाबंधन भीगे से मौसम में भीगी सी पलकों में तैर गई रेशम की डोरी कहाँ गया…

Read More