Sign Up    /    Login

Charumati Ramdas

The Crimson Island

By Charumati Ramdas / May 7, 2022

Decoding M.Bulgakov’s The Crimson Island                                                               A.Charumati Ramdas The Crimson Island, written by the author of Master and Margarita, remains one of the most mysterious plays of world. Looking quite innocent on the surface, the play, which saw the stage just for one theatrical season, only in Moscow, was first published as a satirical sketch on 20th April 1924 in…

Read More

Remembering Pushkin

By Charumati Ramdas / February 17, 2022

The Famous Russian poet Aleksandr Pushkin was killed in a duel in Feb 1837. Pushkin is famous for his poems. He was the first to write a novel in poetry Evgeny Onegin. Let’s remember this poem….   चाहा तुम्हे,चाहत की आग अब भी शायद मेरे दिल में बुझी नहीं पूरी, पर न भड़काएँ तुम को…

Read More

Curly Brackets

By Charumati Ramdas / February 8, 2022

Hello Friends! My Hindi and Marathi translations of the above Russian Post-Modern novel are now available as Kindle books. Please search for Charumati Ramdas on amazon.in / amazon.com and look for धनु-कोष्ठक … Had been extremelt busy and tensed with these titles…. Lot of work is still incomplete….please send me your best wishes!

Read More

चीचिकोव के कारनामे

By Charumati Ramdas / February 5, 2022

चीचिकोव के कारनामे लेखक: मि. बुल्गाकोव अनुवाद: ए. चारुमति रामदास (कविता: दस बिन्दुओं में, प्रस्तावना एवम् उपसंहार सहित) “संभल के, संभल के, बेवकूफ़ !” – चीचिकोव सेलिफान पर चिल्लाया. “तुझे तो मूसल से !” – सामने से सरपट दौड़ता हुआ एक एक गज की मूँछों वाला सरकारी डाकिया चीखा. “दिखाई नहीं देती, पिशाच तुझे ले…

Read More

कुत्ता दिल (एक अंश)

By Charumati Ramdas / January 11, 2022

अध्याय – 2 लेखक: मिखाइल बुल्गाकव अनुवाद: आ. चारुमति रामदास   पढ़ना सीखने की बिल्कुल कोई ज़रूरत नहीं है, जब वैसे भी एक मील दूर से माँस  की ख़ुशबू आती है. वैसे भी (अगर आप मॉस्को में रहते हैं और आपके सिर में थोड़ा-सा भी दिमाग़ है), आप चाहे-अनचाहे बिना किसी कोर्स के पढ़ना सीख…

Read More

बर्फ का साण्ड

By Charumati Ramdas / December 16, 2021

बर्फ़ का साण्ड‌   गाँव, जाड़ों की रात, एक बजे दूर के कमरों से अध्ययन-कक्ष तक बच्चे के कातर रोने की आवाज़ सुनाई दे रही है. ड्योढ़ी, दालान और गाँव सब कुछ काफ़ी देर से सो रहा है. नहीं सो रहा है सिर्फ खुश्योव. वह बैठकर पढ़ रहा है. कभी-कभी अपनी थकी हुई आँखें मोमबत्ती…

Read More

The Fateful Eggs

By Charumati Ramdas / November 16, 2021

The Fateful Eggs: A Lesson for Posterity A. Charumati Ramdas     “Manuscripts don’t burn”, says one of the characters in M. Bulgakov’s novel “Master and Margarita”. That refers not only to the physical existence of the manuscripts, but the matter contained in them – their content, their soul. So far as Bulgakov’s works are…

Read More

घर में

By Charumati Ramdas / September 15, 2021

लेखक: अंतोन चेखव अनुवाद: आ. चारुमति रामदास घर में       “ग्रिगोरेवों के यहाँ से किसी किताब के लिए आए थे, मगर मैंने कह दिया कि आप घर में नहीं हैं. पोस्टमैन अख़बार और दो चिट्ठियाँ दे गया है. वो, येव्गेनी पेत्रोविच, मैं आपसे कहना चाह रही थी कि कृपया सिर्योझा पर ध्यान दें.…

Read More

उद्यान के मालिक

By Charumati Ramdas / June 18, 2021

लेखक: सिर्गेइ नोसव अनुवाद: आ. चारुमति रामदास उद्यान के मालिक “और, ऐसा लगता है कि कल ही शाम को मैं इन कुंजों में टहल रहा था…”   रात, गर्माहट भरी, श्वेत रात नहीं, अगस्त वाली रात. आख़िरी (शायद, आख़िरी) ट्राम. हम खाली कम्पार्टमेंट से बाहर आते हैं, सुनसान सादोवाया पर चल पड़ते हैं, हम दोनों…

Read More

Seryojha on Kindle

By Charumati Ramdas / June 11, 2021

Hello, Friends! Glad to inform that my translation of Vera Panova’s novel -‘Seryojha’ is now on amazon.in as a kindle book. Please have a look: Please go to amazon.in and search for Charumati Ramdas Have a nice Day!  

Read More