Sign Up    /    Login

Alka Kansra

A Slice of Sun

By Alka Kansra / December 3, 2020

Slice of Sun A slice of Sun through my window magnificent and warm cheerful and healing Giving special meaning to life Loneliness and sadness walk out rustling on the wings of warm air A slice of moon through my window romantic and mysterious soothing and radiant giving a special mood to the night jasmine fragrance…

Read More

शरद पूर्णिमा

By Alka Kansra / October 31, 2020

Happy Sharad Purnima. शरद पूर्णिमा शरद पूर्णिमा की रात लक्ष्मी जन्म की रात आसमान में पूरा चाँद सोलह कला सम्पूर्ण चाँद धरती को स्पर्श करता चाँद अमृत बरसाता मंद मंद मुसकाता चाँद तभी तो कृष्ण ने रचाया राधा संग महारास Alka Kansra

Read More

Grow, Transform, Evolve

By Alka Kansra / October 21, 2020

Grow, Transform, Evolve In the ongoing Pandemic life has almost come to a halt and all the complexities for the survival of life have boiled down to a few simple essentials. This has given us an opportunity to think about, to ponder upon the life that we have been leading and the life after Covid…

Read More

सफ़र

By Alka Kansra / October 20, 2020

Another prize winner on Facebook सफ़र देश विदेश का सफ़र और भी ख़ूबसूरत  बना देता है ज़िंदगी के सफ़रनामे को अनकहे ही  बहुत कुछ सिखा भी जाता है वे विशालकाय बर्फ़ से ढके पर्वतों के शिखर वे विस्तृत सागर रेगिस्तान में हवा के साथ पल पल सरकते रेतीले टीले अहसास दिला जाते हैं कि इंसान…

Read More

Story Time

By Alka Kansra / September 2, 2020

Story time Its always an opportunity to listen to music of your choice when on a long drive. The other day while driving back from Delhi after a short stay with my daughter and my little twin grandchildren. We were listening Jagjit Singh. One of his most popular songs “Wo Kagaz Ki Kashti, Wo Baarish…

Read More

Food And A Literary Club

By Alka Kansra / August 16, 2020

Food and a literary club Food made with love, served with love can make life a grand celebration. The fragrance is always inviting and It can create millions of memories. For me, favourite food is the best way to uplift dampened spirits. Food can spice up a literary meet too. Post retirement, I joined “Abhivyakti”…

Read More

रक्षाबंधन

By Alka Kansra / August 16, 2020

रक्षाबंधन बाल्कनी से देख रही थी बारिश की बूँदों की झड़ी बसंत गया, गर्मी गई और सावन भी आ गया संक्रमण से बेख़ौफ़ मौसम बदलते जा रहे त्योहार निकलते जा रहे होली गई , बैसाखी गई और आ गया रक्षाबंधन भीगे से मौसम में भीगी सी पलकों में तैर गई रेशम की डोरी कहाँ गया…

Read More

यादों की पोटलियां

By Alka Kansra / August 3, 2020

This poem bagged the second position in an event conducted by Pen and Writers यादों की पोटलियां जाने वाले चले जाते हैं पर छोड़ जाते हैं अपने पीछे यादों की पोटलियां खुल जाती हैं यहाँ वहाँ हर जगह कभी भी कहीं भी वक़्त बेवक्त और तैरने लगती हैं यादों की परछाइयाँ किसी अपने की डबडबाई…

Read More

मुलाक़ात ख़ुद से

By Alka Kansra / July 29, 2020

This poem got the first position in a poetry competition conducted by Sukhan, a literary group. मुलाक़ात ख़ुद से चुपचाप बैठे बैठे आज यूँ ही खुल गई ज़िन्दगी की किताब और मैं पढ़ती चली गई एक के बाद एक पन्ना पलटती गई ज़िन्दगी की किताब आईना बन गई मुझे मेरा ही अक्स दिखलाती गई मुझ से मेरी ही मुलाक़ात करवाती गई क्या सोचती हूँ क्या चाहती हूँ चुपके से कान में बतलाती चली गई Alka Kansra

Read More

रिश्तों का सफ़र

By Alka Kansra / July 20, 2020

रिश्तों का सफ़र ज़िन्दगी के रिश्तों का पुरपेच घुमावदार सफ़र पहाड़ के घुमावदार रास्तों से कुछ कम तो नहीं पहाड़ की ख़ूबसूरत ऊँचाइयों पर पहुँचने के लिए यह दुर्गम सफ़र तय करना ही पड़ता है ज़िंदगी में भी रिश्तों का सफ़र तय करना ही होगा कभी चीड़ की ख़ुशबू लिए ठण्डी बयार की तरह रिश्ते…

Read More