Sign Up    /    Login

सिर्योझा – 2

लेखक: वेरा पनोवा

अनुवाद: आ. चारुमति रामदास

 

 

ज़िन्दगी की मुश्किलें

 

ये उसने अच्छा किया जो पूछ लिया. वर्ना क्या हर चीज़ पे ध्यान दे सकते हो? सिर्योझा को अच्छा ही लगता, मगर ध्यान ही तो बस नहीं होता ना. चारों ओर इतनी सारी चीज़ें हैं. दुनिया ठसाठस भरी है चीज़ों से. दीजिए हर चीज़ पर ध्यान!

क़रीब-क़रीब सारी चीज़ें बहुत बड़ी हैं: दरवाज़े, ऊफ़, कितने ऊँचे-ऊँचे, लोग (बच्चों को छोड़कर) लगभग उतने ही ऊँचे हैं, जितने दरवाज़े. लॉरी की तो बात ही मत करो; कम्बाईन की भी; इंजिन की भी, जो ऐसी सीटी बजाता है कि बस उसकी सीटी को छोड़कर कुछ और सुनाई ही नहीं देता.

आम तौर से – ये सब इतना ख़तरनाक नहीं है: लोग सिर्योझा से अच्छी तरह पेश आते हैं, अगर ज़रूरत पड़े तो उसके लिए झुक जाते हैं, और कभी भी अपने भारी-भरकम पैरों से उसके पैर नहीं कुचलते. लॉरी और कम्बाईन भी ख़तरनाक नहीं हैं, अगर उनका रास्ता न काटो तो. इंजिन तो दूर है, स्टेशन पर, जहाँ सिर्योझा दो बार तिमोखिन के साथ गया था. मगर आँगन में एक जंगली जानवर घूमता रहता है. उसकी गोल-गोल, शक भरी, निशाना साधती आँख, तेज़-तेज़ साँस लेता थैली जैसा भारी-भरकम गला, पहिए जैसा सीना और फ़ौलादी चोंच है. वह जानवर रुक जाता है और अपने कँटीले पैर से ज़मीन कुरेदता है. जब वह गर्दन तान लेता है तो सिर्योझा जितना ऊँचा हो जाता है. और वह सिर्योझा को भी उसी तरह चोंच मार सकता है, जैसे पड़ोस के जवान मुर्गे को मारी थी, जो बेवकूफ़ी से उड़कर आँगन में आ गया  था. सिर्योझा इस खून के प्यासे जानवर की बगल से निकल जाता है, ऐसा दिखाते हुए कि उसे देख ही नहीं रहा है – मगर जानवर, अपनी लाल कलगी को तिरछा करते हुए गले से कुछ धमकी भरी बात कहता है, उसकी सतर्क, दुष्ट नज़र सिर्योझा का पीछा करती है…

मुर्गे चोंच मारते हैं, बिल्लियाँ खरोंचती हैं, बिच्छू-बूटी से खुजली और जलन होती है; लड़के लड़ते हैं, जब गिरते हो तो ज़मीन घुटने की खाल खींच लेती है – और सिर्योझा का बदन ढँक जाता है खँरोचों से, चोटों से, ज़ख़्मों से. हर रोज़ कहीं न कहीं से खून निकलता ही है. हमेशा कुछ न कुछ होता ही रहता है. वास्का फ़ेंसिंग पर चढ़ गया, मगर जब सिर्योझा चढ़ने लगा तो उसका हाथ छूट गया और चोट लग गई. लीदा के गार्डन में गड्ढा खोदा था, सारे बच्चे कूद-कूद कर गड्ढा फाँदने लगे, और किसी को भी कुछ भी नहीं हुआ, मगर जब सिर्योझा कूदने लगा तो गड्ढे में गिर गया. पैर फूल गया और दर्द करने लगा, सिर्योझा को पलंग पर लेटना पड़ा. मुश्किल से वह उठने के क़ाबिल हुआ ही था कि गेंद खेलने के लिए आँगन में पहुँचा, मगर गेंद ही उड़कर छत पर चली गई और वहाँ पाईप के पीछे तब तक पड़ी रही जब तक वास्का ने आकर उसे ढूँढ नहीं निकाला. एक बार तो सिर्योझा डूब ही गया था. लुक्यानिच अपनी नाव में उन्हें नदी पर घुमाने ले गया था – सिर्योझा को, वास्का को, फ़ीमा को और एक जान-पहचान वाली लड़की नाद्या को. लुक्यानिच की नाव बकवास ही निकली : जैसे ही बच्चे ज़रा-सा हिले डुले, वह गोता खा गई और वे सब के सब, लुक्यानिच को छोड़कर, पानी में गिर पड़े. पानी भयानक ठण्डा था. वह फ़ौरन सिर्योझा की नाक में, मुँह में, कानों में घुस गया – वह चिल्ला भी नहीं सका; पेट में भी घुस गया. सिर्योझा पूरा गीला हो गया, भारी हो गया , जैसे कोई उसे कोई नीचे नीचे पानी में खींच रहा हो. उसे इतना डर लगा जितना पहले कभी नहीं लगा था. और अंधेरा था, और ये काफ़ी देर तक चलता रहा. अचानक उसे ऊपर खींच लिया गया. उसने आँखें खोलीं – चेहरे के बिल्कुल पास नदी बह रही थी, किनारा दिखाई दे रहा था, और धूप में सब कुछ चमक रहा था. सिर्योझा के भीतर जो पानी भरा था वह बाहर निकल रहा था, वह हवा भीतर खींच रहा था, किनारा नज़दीक आता गया, और सिर्योझा हाथों-पैरों पर सख़्त बालू में ख़ड़ा था, ठण्ड और डर से कँपकँपाते हुए. ये वास्या के दिमाग में आया कि उसे बालों से पकड़कर खींच ले. और अगर सिर्योझा के बाल लम्बे न होते तो क्या होता?

फ़ीमा ख़ुद तैर कर बाहर आ गई, उसे तैरना आता है. नाद्या भी क़रीब-क़रीब डूब ही गई थी, उसे लुक्यानिच ने बचाया. और जब लुक्यानिच नाद्या को बचाने में लगा था, तब तक नाव बह गई. सोवियत-फ़ार्म की औरतों ने नाव पकड़ी और लुक्यानिच को ऑफ़िस में फोन पर बताय कि वह उसे ले जाए. मगर अब लुक्यानिच कभी भी बच्चों को नाव पर नहीं ले जाता. वह कहता है, “मुझ पर लानत लगे जो मैं फिर कभी तुम लोगों के साथ जाऊँ.”

दिन भर में जो कुछ भी देखना पड़ता है, बर्दाश्त करना पड़ता है, उससे सिर्योझा बेहद थक जाता है. शाम होते-होते वह पस्त हो जाता है : उसकी ज़ुबान मुश्किल से घूमती है, आँखें घूमने लगती हैं , पंछियों की आँखों के समान. उसके हाथ-पैर धुलाए जाते हैं, कमीज़ बदली जाती है – वह ख़ुद कुछ भी नहीं करता; उसकी चाभी ख़त्म हो चुकी है, जैसे घड़ी की चाभी ख़त्म होती है.

वह सो जाता है, भूरे बालों वाला सिर आराम से तकिये में डाले, दुबले-पतले हाथ फैलाए; एक पैर लम्बा खींचे, दूसरा घुटने पर मोड़े, जैसे किसी गोल सीढ़ी पर चढ़ रहा हो. हल्के, पतले बाल, दो लहरों में बंटे दोनों भँवों की कमानों के ऊपर उभरे उसके माथे को खोल रहे हैं. बड़ी-बड़ी पलकें, घनी बरौनियों की झालर डाले, कस कर बन्द हैं. मुँह बीच में कुछ खुला हुआ, किनारों पर नींद के कारण चिपका हुआ. और वह हौले-हौले साँस लेता है, बे आवाज़, फूल की तरह.

वह सो रहा है – और चाहे ढोल भी बजाओ, तोप के गोले भी दागो – सिर्योझा नहीं उठेगा, वह ताक़त बटोर रहा है, आगे जीने के लिए.

 

Courtesy: storymirror.com

Share with:


5 1 vote
Article Rating

Charumati Ramdas

I am a retired Associate Prof of Russian. I stay in Hyderabad. Currently keep myself busy with translations of Russian works into HIndi.
2 Comments
Newest
Oldest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Navneet Bakshi
1 year ago

बहुत सुन्दर ! आज कल जो बहुत कुछ बिखरा पड़ा है उसे समटने का विचार मन में आता है और उस में सब से आगे हैं, बचपन की यादें | कुछ लिखी भी हैं और अभी बहुत कुछ लिखने वाली बाकी हैं, लेकिन कई बार ऐसी सुन्दर रचनाएं पढ़ कर विचार आता है कि यदि वे सब एक बच्चे के संस्मरण बच्चे की लेखनी से ही पेश किये जाएँ तो कहीं अधिक रोचक बन जाते हैं |   

Random Posts

Placeholder Image 90

Thewriterfriends.com is an experiment to bring the creative people together on one platform. It is a free platform for creativity. While there are hundreds, perhaps thousands of platforms that provide space for expression around the world, the feeling of being a part of fraternity is often lacking. If you have a creative urge, then this is the right place for you. You are welcome here to be one of us.

Random Posts

THE MYSTERY OF THE MISSING VESSEL :)

By Ushasurya | February 20, 2021 | 6 Comments

It had vanished! I am talking about a vessel that I had left on the stove.  I had gone to the backyard – garden – to pluck fresh coriander leaves. As I walked back  into the kitchen after washing my feet, I was shocked as that divine flavour of the rasam was missing. I remembered…

Share with:


Read More

No new year celebrations for the protesting farmers!

By Suresh Rao | January 1, 2021 | 7 Comments

The government and farm unions reached some common ground on December 30 to resolve protesting farmers’ concerns over rise in power tariff and penalties for stubble burning, but the two sides remained deadlocked over the main contentious issues of the repeal of three farm laws and a legal guarantee for MSP. The Haryana Police on…

Share with:


Read More

My journey as a writer.

By RAMARAO Garimella | July 6, 2020 | 4 Comments

I have written many reports during my service in the Navy, and my seniors have appreciated them. Once, when the Eastern Naval Command brought out a bulletin, the editor wanted to include a short story to provide comic relief. The editor thought my piece would need clearance of the Admiral since it poked fun at…

Share with:


Read More

दुश्मन मरे ते ख़ुशी ना करिये, ओये सजना ने वी मर जाना

By Yash Chhabra | August 16, 2020 | 2 Comments

दुश्मन मरे ते ख़ुशी ना करिये, ओये सजना ने वी मर जाना इस हफ्ते ख़बरों में  सुशांत सिंह का केस ही छाया रहा। मुंबई पुलिस एवं बिहार पुलिस  की खींचतान सुप्रीम कोर्ट पहुंच चुकी है।  बिहार सरकार की इस केस में दिलचस्पी  आने वाले विधानसभा चुनावों  को लेकर हो सकती है, लेकिन मुंबई पुलिस  के…

Share with:


Read More

I DO NOT BELIEVE IN WALKING :)

By Ushasurya | August 12, 2020 | 6 Comments

I belong to a family where WALKING is a passion. A Manthra. A watchword for good health. My husband wakes up at 4.45 a.m. and leaves for his “WALK” by 5.15 a.m. My son who is in Bangalore ” WALKS ” . He has a passion for the MARATHONS and takes part with all sincerity.…

Share with:


Read More

Wings of Research and Analysis by Rcay

By Rcay | September 7, 2020 | 7 Comments

  Excerpt from the preface of my book in progress                                     Wings of Research and Analysis by Rcay I am a teacher by choice. As I am a teacher, I must be a researcher and a leader too.…

Share with:


Read More

BIRTH PANGS….

By Ushasurya | August 14, 2020 | 6 Comments

Birth pangs ………   I must tell you that the pain that one undergoes before the birth of his /her brain child is none the less compared with what we women undergo on the  cold operation table in the theatre of a hospital awaiting the little one’s arrival. To put it bluntly, the birth of…

Share with:


Read More

वड़वानल – 20

By Charumati Ramdas | July 26, 2020 | 0 Comments

लेखक: राजगुरू द. आगरकर अनुवाद: आ. चारुमति रामदास 20   गुरु, मदन, खान और दत्त बोस की गतिविधियों पर नजर रखे हुए थे । वह कब बाहर  जाता  है,  किससे  मिलता  है,  क्या  कहता  है ।  यह  सब  मन  ही  मन  नोट  कर रहे थे । ‘‘बोस  आज  दोपहर  को  पाँच  बजे  बाहर  गया  है…

Share with:


Read More

Bollywood- The Big Flotsam

By Navneet Bakshi | September 9, 2020 | 5 Comments

Rhea Charaborty’s arrest hasn’t come as a surprise, but it certainly is not the last one. Calling it a tip of the iceberg may sound somewhat clichéd, but how else should I say it? I don’t have the skill of Shashi Tharoor and Shashi Tharoor won’t say it. Why, should we single out someone and…

Share with:


Read More

REALITIES…..

By Ushasurya | July 27, 2020 | 6 Comments

REALITIES….. Divya came out of the Art Gallery and paused near the flight of steps for a while. Not that she wanted to go back and have a look at the exhibits again. No way, she said to herself.She started walking towards home. It was well past noon and there was no sun in the…

Share with:


Read More
2
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x