Sign Up    /    Login

सिर्योझा – 16

लेखिका: वेरा पनोवा

अनुवाद: आ. चारुमति रामदास

 

प्रस्थान से पूर्व की रात

 

कुछ अनजान आदमी आए, डाईनिंग हॉल और मम्मा के कमरे का फ़र्नीचर हटाया और उसे टाट में बांध दिया. मम्मा ने परदे और लैम्प के कवर हटाए, और दीवारों से तस्वीरें निकालीं. और कमरे में सब कुछ बड़ा बिखरा बिखरा, बेतरतीब सा लग रहा था : फ़र्श पर रस्सियों के टुकड़े बिखरे पड़े थे, रंग उड़े हुए वॉल पेपर पर काली चौखटें – वहाँ, जहाँ तस्वीरें लटक रही थीं. इस बेतरतीबी के बीच पाशा बुआ का कमरा और किचन ही द्वीपों जैसे लग रहे थे. नंगे बिजली के बल्ब नंगी दीवारों, नंगी खिड़कियों और भूरे टाट पर चमक रहे थे. एक दूसरे पर रखी कुर्सियों का ढेर बन गया था, जो छत की ओर अपने खुरचे हुए पैर किए थीं.

कोई और समय होता तो वहाँ लुका-छिपी का खेल खेला जा सकता था. मगर अब, इस समय…

वे आदमी रात को देर से गए. सब लोग, थके हुए सोने लगे. और ल्योन्या भी सो गया, शाम को चीख़ा करता था उतना चीख कर. लुक्यानिच और पाशा बुआ बिस्तर में देर तक फुसफुसाते रहे और उनकी नाक सूँ-सूँ करती रही, आख़िर में वे भी ख़ामोश हो गए, और लुक्यानिच के खर्राटों की आवाज़ और पाशा बुआ की नाक से निकलती पतली सीटी सुनाई देने लगी.

करस्तिल्योव  अकेला ही टाट से बंधी कुर्सी पर मेज़ के पास नंगे लैम्प के नीचे बैठा था और लिख रहा था. अचानक उसे अपनी पीठ के नीचे गहरी साँस की आवाज़ आई. उसने मुड़ कर देखा – उसके पीछे सिर्योझा खड़ा था लंबी कमीज़ पहने, नंगे पैर और बंधे हुए गले से.

“तू क्या कर रहा है यहाँ?” फुसफुसाहट से करस्तिल्योव  ने पूछा और उठ कर खड़ा हो गया.

“करस्तिल्योव ,” सिर्योझा ने कहा, “मेरे प्यारे, मेरे दुलारे, मैं तुमसे विनती करता हूँ, ओह, प्लीज़, मुझे भी ले चलो!”

और वह दुख से सिसकियाँ लेने लगा, अपने आप को रोकने की कोशिश करते हुए, जिससे सोए हुए लोग उठ न जाएँ.

“तू, मेरे दोस्त, क्या कर रहा है!” करस्तिल्योव  ने उसे हाथों में उठाते हुए कहा. “तुमसे कहा है न – नंगे पैर घूमना मना है, फ़र्श ठंडा है…तुम्हें तो मालूम है, है ना?…हम तो हर चीज़ के बारे में तय कर चुके हैं…”

“मुझे खल्मागोरी जाना है,” सिर्योझा बिसूरने लगा.

“देखो ज़रा, पैर तो पूरे जम गए हैं,” करस्तिल्योव  ने कहा. सिर्योझा की कमीज़ के किनारे से उसने उसके पैर ढाँक दिए; उसके दुबले-पतले शरीर को, जो सिसकियों के कारण थरथरा रहा था, अपने सीने से चिपटा लिया. “क्या कर सकते हो, समझ रहे हो, अगर ये ऐसे ही चलता रहा तो. अगर तुम हमेशा बीमार पड़ते रहे…”

“मैं अब और बीमार नहीं पडूँगा!”

“और जैसे ही तुम अच्छे हो जाओगे – मैं फ़ौरन तुम्हें लेने के लिए आ जाऊँगा.”

“तुम झूठ तो नहीं बोल रहे हो?” दुखी होकर सिर्योझा ने पूछा और उसकी गर्दन में बाँहें डाल दीं.

“मैंने, दोस्त, आज तक तुमसे कभी झूठ नहीं बोला.”

‘सच है, झूठ नहीं बोला,’ सिर्योझा ने सोचा, ‘मगर कभी कभी वह भी झूठ बोलता है, वे सभी कभी कभी झूठ बोलते हैं…और, अगर, अचानक, वह मुझसे झूठ बोल रहा हो तो?’

वह इस मज़बूत मर्दाना गर्दन को पकड़े रहा, जो ठोढ़ी के नीचे चुभ रही थी, जैसे किसी आख़िरी सहारे को छोड़ना नहीं चाह रहा हो. इस आदमी पर उसकी सारी आशाएँ टिकी थीं, और वही उसका रक्षक था, उसका प्यार था. करस्तिल्योव  उसे लिए-लिए डाईनिंग रूम में घूम रहा था और फुसफुसा रहा था – रात की ये पूरी बातचीत फुसफुसाहट में ही हो रही थी:

“…आऊँगा, फिर हम तुम रेल में जाएँगे…रेलगाड़ी तेज़ चलती है. डिब्बे लोगों से खचाखच भरे होते हैं…पता भी नहीं चलेगा कि कब मम्मा के पास पहुँच गए हैं…इंजिन सीटी बजाता है…

‘बस, सिर्फ़ उसके पास कभी समय ही नहीं होगा मेरे लिए आने का,’ सिर्योझा दुख से सोच रहा था. ‘और मम्मा के पास भी समय नहीं होगा. हर रोज़ उनके पास अलग अलग तरह के लोग आते रहेंगे और टेलिफ़ोन करते रहेंगे, और हमेशा वे या तो काम पर जाते रहेंगे, य परीक्षा देते रहेंगे, या ल्योन्या को संभालते रहेंगे, और मैं यहाँ इंतज़ार करता रहूँगा, इंतज़ार करता रहूँगा, और ये इंतज़ार कभी ख़त्म ही नहीं होगा…’

“…वहाँ, जहाँ हम रहेंगे, सचमुच का जंगल है, अपने यहाँ की बगिया जैसा नहीं…कुकुरमुत्ते, बैरीज़, …”

“भेड़िए भी हैं?”

“वो मैं अभी नहीं बता पाऊँगा. भेड़ियों के बारे में मैं ख़ास तौर से पता करूंगा और तुम्हें ख़त में लिखूँगा…और नदी है, हम तुम तैरने के लिए जाएँगे…मैं तुम्हें पेट के बल खिसकते हुए तैरना सिखाऊँगा…”

‘और कौन कह सकता है,’ आशा की एक नई उमंग से सिर्योझा ने सोचा, शक करते करते वह थक गया था. ‘हो सकता है, यह सब सचमुच में होगा.’

“हम बन्सियाँ बनाएँगे, मछलियाँ पकडेंगे…देखो! बर्फ़ पड़ने लगी!”

वह सिर्योझा को खिड़की के पास ले गया. खिड़की के पार बड़े बड़े सफ़ेद फ़ाहे उड़ रहे थे, एक पल में चपटे होकर खिड़की की काँच से चिपक रहे थे. सिर्योझा उनकी ओर देखने लगा. वह पूरी तरह थक गया था, अपना गरम गीला गाल करस्तिल्योव  के चेहरे से चिपकाए वह शांत हो गया था.

“आ गईं सर्दियाँ! फिर से ख़ूब घूमोगे, स्लेज पर फिसलोगे, समय तो बिना कुछ महसूस किए उड़ जाएगा…”

“मालूम है,” सिर्योझा ने ग़मगीन परेशानी से कहा. “मेरी स्लेज की डोरी बहुत बुरी है, तुम नई डोरी बांध दो.”

“ठीक है. ज़रूर बांध दूँगा. मगर तुम, दोस्त, मुझसे वादा करो : अब कभी नहीं रोओगे, ठीक है? तुम्हें भी नुक्सान होता है, और मम्मा भी परेशान हो जाती है, और वैसे भी ये मर्दों का काम नहीं है. मुझे ये अच्छा नहीं लगता…वादा करो कि कभी नहीं रोओगे.”

“हूँ,” सिर्योझा ने कहा.

“वादा करते हो? पक्का वादा?”

“हूँ, हूँ…”

“तो, ठीक है फिर. देखो, मुझे तुम्हारे, मर्द के, वादे पर पूरा भरोसा है.”

वह थके हुए, बोझिल हो चुके सिर्योझा को पाशा बुआ के कमरे में ले गया, उसे पलंग पर लिटाया और कंबल से ढाँक दिया. सिर्योझा ने एक लंबी, हाँफ़ती हुई साँस छोड़ी और फ़ौरन सो गया. करस्तिल्योव  कुछ देर खड़ा रहा, उसकी ओर देखता रहा. डाईनिंग रूम से आती हुई रोशनी में सिर्योझा का चेहरा छोटा सा, पीला नज़र आ रहा था – करस्तिल्योव  मुड़ा और पंजों के बल बाहर निकल गया.

 

 

 

 

 

 

 

Share with:


0 0 votes
Article Rating

Charumati Ramdas

I am a retired Associate Prof of Russian. I stay in Hyderabad. Currently keep myself busy with translations of Russian works into HIndi.
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Random Posts

Placeholder Image 90

Thewriterfriends.com is an experiment to bring the creative people together on one platform. It is a free platform for creativity. While there are hundreds, perhaps thousands of platforms that provide space for expression around the world, the feeling of being a part of fraternity is often lacking. If you have a creative urge, then this is the right place for you. You are welcome here to be one of us.

Random Posts

Death of My Brother.

By RAMARAO Garimella | July 3, 2020 | 1 Comment

Death is always painful, but the end of a sibling is the worst type of cut and wreaks havoc on the body and the psyche. When I heard of the demise of my elder brother, I felt a sharp pain as if someone had severed one of my limbs. I stood transfixed, struggling to withstand…

Share with:


Read More

Central Government Approves Underwater Research on RAMA SETHU

By Suresh Rao | January 25, 2021 | 4 Comments

The government has approved an underwater research project to ascertain the origins of the Ram Setu — a 48-km-long chain of shoals between India and Sri Lanka. (Source of News ‘Divya A at Indian Express.’) Talking about the aim of the exploration, Union Minister of State for Tourism and Culture, Prahlad Singh Patel, said, “The…

Share with:


Read More

Bihar 2020 Elections – An Analysis

By Gopalakrishnan Narasimhan | November 11, 2020 | 1 Comment

Post Covid-19 pandemic, the recently held elections was the first major election in India. Along with this, we had by-polls all over India. Bihar is always a crucial state, politically and electorally, even when it was united as it proved vital in forming the Central Government. The counting was unprecedently slow and with thin margins…

Share with:


Read More

Free Lunch At Chaat Shops- Remembering Shimla

By Navneet Bakshi | July 22, 2020 | 4 Comments

Free Lunch At Chaat Shops Jaikishen was a Kashmiri boy, fair complexioned, rosy cheeks, green eyes and golden hair. He looked cute and harmless but looks can be deceptive. He was my classmate and my fair weather friend, like most of the classmates are in school days. One day at lunch break I found my…

Share with:


Read More

Covid19 vaccination scorecard – 1

By Prasad Ganti | February 16, 2021 | 2 Comments

Now that vaccination for Covid 19 has started across countries in the world, I am watching the scorecard to see the progress. The run rate is not great at the moment, but then the innings has just started. The run rate differs amongst countries and also the controversies arising thereof. Regardless, I am expecting things…

Share with:


Read More

वड़वानल – 18

By Charumati Ramdas | July 25, 2020 | 0 Comments

लेखक: राजगुरू द. आगरकर अनुवाद: आ. चारुमति रामदास   ‘तलवार’    पर 1 दिसम्बर की ज़ोरदार तैयारियाँ चल रही थीं । बेस की सभी इमारतों को   पेंट   किया   गया   था ।   बेस   के   रास्ते,   परेड   ग्राउण्ड   रोज   पानी   से   धोए   जाते थे ।   रास्ते   के   किनारे   पर   मार्गदर्शक   चिह्नों   वाले   बोर्ड   लग   गए   थे ।   परेड  …

Share with:


Read More

Sir MV Remembered

By Suresh Rao | September 15, 2020 | 4 Comments

Today, September 15, we can mark the 160th birthday of Bharat Ratna Sir M.Visvesvaraya (popularly known as Sir MV.)  Sir MV was  well known in India and a few Asian & Middle Eastern countries as a diligent, honest engineering administrator and professional who inspired and supported the meritorious among his subordinates.      (pic-1) Bharat…

Share with:


Read More

Interfering with Nature

By blogfriends | April 29, 2020 | 7 Comments

Interfering with Nature. Speculations are rife and many theories are being propounded about the origin of Corona virus, but yet none is confirmed. It will go on and on until what caused the infection in the patient Zero is established and after that a new set of claimants vying for a share for glory will…

Share with:


Read More

सादोवाया पर बहुत ट्रैफ़िक है

By Charumati Ramdas | September 18, 2020 | 2 Comments

लेखक: विक्टर द्रागून्स्की ; अनुवाद: आ, चारुमति रामदास   वान्का दीखोव के पास एक साइकिल थी। बहुत पुरानी थी, मगर ठीक ही थी। पहले ये वान्का के पापा की साइकिल थी, मगर, जब साइकिल टूट गई, तो वान्का के पापा ने कहा: “वान्का, पूरे दिन क्यों रेस लगाता रहे, ये ले तेरे लिए गाड़ी, इसे…

Share with:


Read More

Love Jihad.

By RAMARAO Garimella | September 13, 2020 | 4 Comments

Syed and Gayatri didn’t mean to fall in love, but it happened. Love doesn’t look at logic or backgrounds, and least of all, religion. Gayatri was from a conventional South Indian family that went to a temple every Saturday. Syed bought goats for his family every Eid. That said it all. Their paths would never…

Share with:


Read More
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x