Sign Up    /    Login

सफ़र

Another prize winner on Facebook
सफ़र

देश विदेश का सफ़र
और भी ख़ूबसूरत 
बना देता है
ज़िंदगी के सफ़रनामे को
अनकहे ही 
बहुत कुछ सिखा भी जाता है
वे विशालकाय बर्फ़ से ढके
पर्वतों के शिखर
वे विस्तृत सागर
रेगिस्तान में हवा के साथ
पल पल सरकते रेतीले टीले
अहसास दिला जाते हैं
कि इंसान कितना बौना है
इस विशाल प्रकृति के समक्ष
पुरातन मंदिर और गिरजे
महल और चौबारे
सदियों से खड़े हैं
अडिग
इंसान की ज़िन्दगी 
कितनी क्षणभंगुर है
पर इन सबके ऊपर है
इस सबको रचने वाला
जिसे सुन सकते हैं
किसी मन्दिर या गिरजे में
घंटियों की ध्वनि के मध्य
महसूस कर सकते हैं
रेगिस्तान को गुलज़ार करते
बंजारों और ऊँटों के बीच
या रेगिस्तान की ठंडी रात में
कालबेलिया नृत्य की लय में
किसी पुरातन देवालय की
सरसराती हवा में
अगरबत्ती की ख़ुश्बू में
या देवालय में जलते
दीपक की लौ में
वही तो है जगतगुरु
वही तो है
सबका परमपिता
सबका परमात्मा ।
Alka Kansra

Share with:


5 1 vote
Article Rating

Alka Kansra

1 Comment
Newest
Oldest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Navneet Bakshi
1 year ago

कण , कण में भगवान् | यह सब उसी की माया ही तो है | बूँद जो बन गई मोती की यह पंक्तियाँ भी कुछ ऐसा ही कहती हैं ;-

कुदरत की इस पवित्रता को तुम निहार लो
इनके गुणों को अपने मन में तुम उतार लो  चमका दो आज लालिमा
चमका दो आज लालिमा अपने ललाट की
कण कण से झनकती तुम्हीं छबी विराट की
अपनी तो आँख एक है,  इसकी हज़ार है

ये कौन चित्रकार है ये कौन चित्रकार

Random Posts

Placeholder Image 90

Thewriterfriends.com is an experiment to bring the creative people together on one platform. It is a free platform for creativity. While there are hundreds, perhaps thousands of platforms that provide space for expression around the world, the feeling of being a part of fraternity is often lacking. If you have a creative urge, then this is the right place for you. You are welcome here to be one of us.

Random Posts

State of Karnataka’s Treasured I-phone factory near Kolar

By Suresh Rao | December 13, 2020 | 7 Comments

MOB  ACTION  AT A  I-PHONE  MANUFACTURING  PLANT ======================================================================= What precisely catalyzed the spontaneous morning violence at WINSTRON plant is still unclear. A source said that most of the workforce dispersed after police allegedly lathi-charged the protesters. “Some 60 to 70 employees have been caught by police and have been badly beaten. There is a climate…

Share with:


Read More

वड़वानल – 07

By Charumati Ramdas | July 17, 2020 | 4 Comments

लेखक: राजगुरू द. आगरकर अनुवाद: आ. चारुमति रामदास निवेदक कह रहा था, ‘‘कल प्रेस कॉन्फ्रेन्स में नेताजी ने घोषणा की कि ब्रिटिश साम्राज्य     के     जुए     से     आजाद     हुआ     पहला     हिन्दुस्तानी     भू–भाग     है     शहीद     द्वीप–अण्डमान, इम्फाल  पर  किये  जा  रहे  हमलों  में  आज़ाद  हिन्द  सेना  की  गाँधी  ब्रिगेड  सम्मिलित हुई   है ।’’ नेताजी  के  मतानुसार  हिन्दुस्तान …

Share with:


Read More

वड़वानल – 68

By Charumati Ramdas | September 7, 2020 | 0 Comments

लेखक: राजगुरू द. आगरकर अनुवाद: आ. चारुमति रामदास     हालाँकि दिन समाप्त हो गया था मगर रात बैरन बनकर सामने खड़ी थी। हर जहाज़ पर और नाविक तल पर  सैनिक इकट्ठे होकर चर्चा कर रहे थे। ‘तलवार’,  ‘कैसल बैरक्स’ और ‘डॉकयार्ड’ के सामने के रास्ते पर टैंक्स घूम रहे थे। रास्ते से गुज़रते हुए…

Share with:


Read More

Living at Constance Lodge——Part 6

By Navneet Bakshi | September 21, 2021 | 2 Comments

Living at Constance Lodge——Part 6     Remembering Father 18th September 2021   18th September was my father’s death anniversary, so let me write some more of what I remember about him. After listening to the morning news bulletin, he would start getting ready for going to the office. His office was hardly fifteen minutes…

Share with:


Read More

Iron In Soul

By Hemant Chopra | September 28, 2020 | 1 Comment

IRON IN SOUL In those days of militancy in Punjab, terror swept the land like cloud of a poisonous gas, oppressive and stifling. In initial days havoc was brought about by the assassins targeting a particular community. Passengers were pulled out of trains and buses and shot in cold blood. People in parks and temples…

Share with:


Read More

वड़वानल – 01

By Charumati Ramdas | July 11, 2020 | 2 Comments

लेखक: राजगुरु दतात्रेय आगरकर ; अनुवाद : आ. चारुमति रामदास ऐसा कितने साल चलेगा ? जनवरी का महीना खत्म होते–होते वह अभी भी बेचैन हो जाता है और फिर पूरे महीने वह ऐसे रहता है मानो पूरी तरह विध्वस्त हो चुका हो । सदा चमकती आँखों की आभा और मुख पर विद्यमान तेज लुप्त हो…

Share with:


Read More

Hindostaan Hamara

By Navneet Bakshi | August 8, 2020 | 6 Comments

My father used to sing this couplet Na sambhloge to mitt jaoge ai hindostaan walo Tumhari dastan tak bhi na hogi dastaanon mein Watan Ki Fikar Kar Nadan! Musibat Ane Wali Hai Teri Barbadiyon Ke Mashware Hain Asmanon Mein ( Be watchful, lest you get wiped out- O Indians Your story won’t even be there…

Share with:


Read More

उद्यान के मालिक

By Charumati Ramdas | June 18, 2021 | 2 Comments

लेखक: सिर्गेइ नोसव अनुवाद: आ. चारुमति रामदास उद्यान के मालिक “और, ऐसा लगता है कि कल ही शाम को मैं इन कुंजों में टहल रहा था…”   रात, गर्माहट भरी, श्वेत रात नहीं, अगस्त वाली रात. आख़िरी (शायद, आख़िरी) ट्राम. हम खाली कम्पार्टमेंट से बाहर आते हैं, सुनसान सादोवाया पर चल पड़ते हैं, हम दोनों…

Share with:


Read More

Bill and Steve exchange words…

By Suresh Rao | December 11, 2020 | 4 Comments

Why is Steve in heavens?  Read@ http://creative.sulekha.com/apple-a-day-may-not-be-good-for-health_86662_blog   Share with: 5 1 vote Article Rating

Share with:


Read More

Website Defects/Suggestions

By Navneet Bakshi | May 3, 2020 | 1 Comment

17-07-2020 1. Can we add a Button or a Prompt at the right side of the Comment Window against the Message- “You must be Logged in for Posting A Comment” 2. Can we make a provision of sending a mail from Admin for asking people to Post the Blogs or Appreciating them for getting good…

Share with:


Read More
1
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x