Sign Up    /    Login

वड़वानल – 75 (अंतिम भाग)

लेखक: राजगुरू द. आगरकर

अनुवाद: आ. चारुमति रामदास

 

मुलुंड कैम्प में उपोषण और भी कई दिनों तक चलता रहा। सैनिक डाँट–फटकार से घबराए नहीं और न ही लालच के बस में हुए। अनेक लोगों को कमज़ोरी के कारण अस्पताल में भर्ती करना पड़ा, कई लोग बीमार हो गए, मगर उपोषण चलता रहा।

 

 

 

मुलुण्ड के एवं अन्य कैम्पों में जाँच कमेटियों का काम जारी था। जो सैनिक शरण आ जाते,  हाथ–पैर जोड़कर माफ़ी माँग लेते उनका किस तरह से उपयोग किया जाए यह योजना बनाई जा रही थी। झूठी ज़ुबानियाँ दिलवाई जा रही थीं, सुबूत तैयार किए जा रहे थे।

विद्रोह में शामिल अनेक सैनिक डटे हुए थे। टूट जाऊँगा,  पर झुकूँगा नहीं – यह उनका सिद्धान्त था। उन पर छोटे–मोटे आरोप लगाए जा रहे थे,  उन्हें डिस्चार्ज कैम्प में भेजा जा रहा था। आठ साल पहले दी गई पूरी किट को अच्छी हालत में वापस करने को कह रहे थे, हाथ में रेलवे का एक वारंट रख देते,  आठ वर्षों की सेवा के बाद यदि खाली जेब जाने की कोई शिकायत करता तो उसे जवाब मिलता,   ‘‘तुम विद्रोह में शामिल थे, तुमने अंग्रेज़ सरकार के ख़िलाफ़ विद्रोह किया था यह साबित हो चुका है और तुम्हें नौसेना से निकाल दिया गया है। किट वापस न करने के कारण पैसे काट लिए गए हैं। सरकार ने मेहरबानी करते हुए तुमसे वसूल की जाने वाली रकम माफ़ करके तुम्हारे केस को ख़त्म कर दिया है।’’

‘‘मुझ पर सैनिक–अदालत में मुकदमा चलाओ!’’ एकाध सैनिक कहता।

‘‘तुम्हारा केस ख़त्म हो चुका है।’’ उसे जवाब मिलता।

रात को इन सैनिकों को नेवी पुलिस के चार–पाँच गोरे जवानों के साथ रेलवे स्टेशन भेजकर रेलगाड़ी में ठूँसा जाता और इस बात का इत्मीनान कर लिया जाता कि वे उतर नहीं जाएँगे।

जिन्होंने विद्रोह का नेतृत्व किया,  जिन पर आरोप लगाए जा सकते थे, जो प्रारंभिक जाँच में ख़तरनाक प्रतीत हुए ऐसे सभी नौसैनिकों को विशेष जाँच समिति के सामने पेश किया गया, झूठे–सच्चे आरोप लगाए गए,  सुबूत–गवाह पेश किये गए। इन नौसैनिकों में खान था,  दास था,  गुरु था और कई अन्य लोग थे। इन्हें लम्बी अवधि की सज़ाएँ सुनाई गईं। कितने लोगों को सज़ाएँ मिलीं, कितने लोगों को नौसेना से निकाल दिया गया – यह संख्या कभी भी बाहर नहीं आई।

 

 

 

 

पूरब से स्वतन्त्रता की आहट आ रही थी। सभी लोग स्वतन्त्रता की तैयारी करने में मगन थे। मगर स्वतन्त्रता की सुबह के स्वागत के लिए जिन्होंने अपने खून का छिड़काव करने की तैयारी की थी उन्हें राष्ट्रीय नेता भूल गए थे, सामान्य जनता भी भूल गई थी।

स्वतन्त्रता का स्वागत करते हुए 14 अगस्त, 1947 की रात को पंडित जवाहर लाल नेहरू कह रहे थे, ”Long years ago we made a tryst with destiny….”

चारों ओर जश्न मनाया जा रहा था। मगर विद्रोह में शामिल हुए नौसैनिक घने अँधेरे में ठोकरें खाते हुए प्रकाश की एकाध अस्पष्ट–सी किरण ढूँढ़ रहे थे।

❑     ❑      ❑

Courtesy: storymirror.com

 

Share with:


0 0 votes
Article Rating

Charumati Ramdas

I am a retired Associate Prof of Russian. I stay in Hyderabad. Currently keep myself busy with translations of Russian works into HIndi.
5 Comments
Newest
Oldest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Suresh Rao
1 year ago

Charumati ji posts so fast. I am still trying to digest the first 3 posts of hers… my Hindi reading is very slow lately; I can understand the language.

Btw, Navneet… you have to get more members. Given them some incentives to join! AT this time we have less members and posters compared to Sulekha!

Navneet Bakshi
1 year ago
Reply to  Suresh Rao

Yes, Sureshji- We have to get them. There are many who keep joining but sincerely speaking FB and Whatsapp have destroyed the culture of Blogging. Giving incentive is on cards and at least so far the people who are onboard don’t seem to be those who will get motivated by the thought of some pecuniary gains. The idea of arranging contests is good but, for that also to take shape, first the number of people visiting the site regularly must increase.

Navneet Bakshi
1 year ago

Hello Charumati Ji- Thanks for your continuous support. Your contributions are so vital to this site. I am very slow in catching up and there are still not many member here, but whatever we post, will stay for times to come for people to read and that was the basic reason behind making this website. Please keep posting your works here. I am confident that one day, this place will be buzzing with activity.

Random Posts

Placeholder Image 90

Thewriterfriends.com is an experiment to bring the creative people together on one platform. It is a free platform for creativity. While there are hundreds, perhaps thousands of platforms that provide space for expression around the world, the feeling of being a part of fraternity is often lacking. If you have a creative urge, then this is the right place for you. You are welcome here to be one of us.

Random Posts

President-elect Joe Biden proposes to jump start US economy with a 1.5 trillion dollar stimulus

By Suresh Rao | January 14, 2021 | 3 Comments

Soon after his inauguration as President on January 20th, Joe Biden to present to Congress a stimulus package designed to jump-start US-economy that has stagnated during the coronavirus pandemic.  The proposed economic lifeline could exceed $1.5 trillion and help minority communities. Joe Biden campaigned last year on a promise to take the pandemic more seriously…

Share with:


Read More

How my 60th birthday was celebrated in Aa Me Ri Ca

By Suresh Rao | October 1, 2020 | 9 Comments

I went back in time to mull over the shocker of a birthday I had to encounter when a nephew of mine organized it without telling me, in my own home! This enterprising nephew who was pursuing a PhD program in electrical engineering at a nearby University campus, would occasionally drop by late at night…

Share with:


Read More

The international ratings

By Prasad Ganti | April 10, 2021 | 2 Comments

Countries over the world are measured on various scales by different institutions. Some measurements are done by institutions within the country while some by outside the country. Per capita income or how much an average citizen earns is collected and published by the country. While some measures like ease of doing business or gender inequality…

Share with:


Read More

True Picture of the British Raj

By Navneet Bakshi | August 27, 2020 | 2 Comments

True Picture of the British Raj The only history of India that I have read is what was taught to is in the school history books. Recently, I saw a beautiful Whatsapp video where the presenter shows how the history that has been taught to us in the school was not the history of India…

Share with:


Read More

सिर्योझा – 13

By Charumati Ramdas | February 23, 2021 | 0 Comments

लेखिका: वेरा पनोवा अनुवाद: आ. चारुमति रामदास अध्याय 13   समझ से परे   आख़िर सिर्योझा को बिस्तर से उठने की इजाज़त मिल गई, और फिर घूमने फिरने की भी. मगर घर से दूर जाने की और पड़ोसियों के घर जाने की इजाज़त नहीं थी : डरते हैं कि कहीं फिर उसके साथ कुछ और…

Share with:


Read More

BIRTH PANGS….

By Ushasurya | August 14, 2020 | 6 Comments

Birth pangs ………   I must tell you that the pain that one undergoes before the birth of his /her brain child is none the less compared with what we women undergo on the  cold operation table in the theatre of a hospital awaiting the little one’s arrival. To put it bluntly, the birth of…

Share with:


Read More

वड़वानल – 69

By Charumati Ramdas | September 8, 2020 | 0 Comments

लेखक: राजगुरू द. आगरकर अनुवाद: आ. चारुमति रामदास     दोपहर ग्यारह बजे रॉटरे ने गॉडफ्रे का एक सन्देश रेडियो पर प्रसारित किया: ‘‘कल मैंने तुमसे कहा था कि परिस्थिति सामान्य करने के लिए सरकार के पास प्रचुर सैनिक बल उपलब्ध है। His Excellency Commander in Chief लार्ड एचिनलेक ने दक्षिण विभाग के ऑफ़िसर कमांडिंग…

Share with:


Read More

सिर्योझा – 14

By Charumati Ramdas | March 1, 2021 | 0 Comments

लेखिका : वेरा पनोवा अनुवाद: आ. चारुमति रामदास   बेचैनी   फिर से बीमारी!  इस बार तो बिना किसी कारण के टॉन्सिल्स हो गए. फिर डॉक्टर ने कहा, “छोटी छोटी गिल्टियाँ,” और उसे सताने के नए तरीके ढूँढ़ निकाले – कॉडलिवर ऑईल और कम्प्रेस. और बुखार नापने के लिए भी कहा. कम्प्रेस में क्या करते…

Share with:


Read More

DRAWSTRING DRAMA

By Navneet Bakshi | July 31, 2020 | 4 Comments

DRAWSTRING DRAMA ( From Memories of My Childhood) We had a long sunny verandah. There was only one entrance to the house and that was at an extreme end of the verandah. There was our bathroom to the right hand side as you entered and two closed doors of the adjoining apartment which mostly remained…

Share with:


Read More

वड़वानल – 53

By Charumati Ramdas | August 24, 2020 | 0 Comments

लेखक: राजगुरू द. आगरकर अनुवाद: आ. चारुमति रामदास ‘तलवार’ में मुम्बई और आसपास के जहाज़ों और नौसेना तल के सैनिक इकट्ठा हुए थे । आज सभी जहाज़ और सारे नौसेना तल पूरी तरह से हिन्दुस्तानी सैनिकों के कब्ज़े में थे । इन जहाज़ों पर और नौसेना तलों पर तिरंगे के साथ–साथ कम्युनिस्ट और मुस्लिम लीग…

Share with:


Read More
5
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x