Sign Up    /    Login

मैं अपना प्यार – ७

लेखक: धीराविट पी. नागात्थार्न

अनुवाद: आ. चारुमति रामदास

*Succesore novo vincitur omnis amor (Latin): नया प्‍यार हमेशा पुराने प्‍यार को हरा देता है Ovid 43 BC-AD C.17

सातवाँ दिन

जनवरी १७,१९८२

आज इतवार है। तुम्‍हारी बेहद याद आ रही है। हम साथ-साथ काम करते रहें है। मगर जिन्‍दगी की ज़रूरत ने, जो अचानक वज्रपात की तरह गिरी, हमें जुदा कर दिया। तुमने मुझे अकेला छोड़ दिया क्रूर भाग्‍य के थपेडे खाने के लिये! मेरे दिल में गम ने अपनी जगह बना ली है। हम, किसी न किसी रूप में, जिन्‍दगी के कैदी हैं। इतना मैं जानता हूँ। हर रोज मैं यही सोचकर अपने आप को दिलासा देता हूँ कि तुम कभी न कभी तो वापस आओगी। मैं अभी भी एक कैदी की तरह अपने प्‍यार के वापस लौटने का इंतजार करने की ड्यूटी निभा रहा हूँ।

आज सुबह मैं कुछ देर से उठा क्‍योंकि कल रात रोज़मर्रा के कामों में देर रात तक उलझा रहा। दस बजे मैं और सोम्‍मार्ट मुंशीराम बुक स्‍टोर गए, स्‍कूटर से। बदकिस्‍मती से वह बन्‍द था। वजह सिर्फ ये थी कि यह एक ‘छुट्टी!’ का दिन था। हम आगे कनाट प्‍लेस तक किसी काम से चले गए। इतवार के दिन कनाट प्‍लेस कब्रिस्‍तान की तरह दिखाई देता है। करीब-करीब सारी दुकानें बन्‍द थीं। कुछ विदेशी टूरिस्‍ट्स कॉरीडोर्स में, फुटपाथों पर और सड़कों पर चल रहे थे। सड़क पर गाडियाँ लगातार आ-जा रही थी। ट्रैफिक सुचारू रूप से चल रहा था।

पालिका प्‍लाजा़ बन्‍द था। सिर्फ रेस्‍तराँ और थियेटर्स खुले थे। घूमने निकलने से पहले हमने ‘हेस्‍टी-टेस्‍टी’ रेस्‍तरॉ में सस्‍ता-सा लंच लिया। फिर हम एक गोलाकार पथ पर एक जगह से दूसरी जगह चलते रहे। हमने शुरूआत की ‘हेस्‍टी–टेस्‍टी’ से पालिका प्‍लाजा़ तक, जनपथ, फिर ‘क्‍वालिटी रेस्‍तराँ’ के सामने रीगल तक। हमने ज्‍यादातर समय सड़क पर लगी दुकानों में सस्‍ते कपडों और किताबों को देखने में बिताया। साड़ी पहनी सुन्‍दर, जवान लड़कियों को देखना अच्‍छा लग रहा था।

वे रेगिस्‍तान में किसी नखलिस्‍तान की तरह मालूम होती थी। एक दिलचस्‍प बात यह हुई कि जब हम ‘क्‍वालिटी रेस्‍तराँ’ के सामने किताबें छान रहे थे तो हमें एक अजीब सा आदमी मिला। सोम्‍मार्ट ने जन्‍म-कुण्‍डली पर एक किताब उठाई और उसका कवर देखने लगा। वह अजीब आदमी उसकी तरफ आया और पूछने लगा,

‘‘क्‍या तुम बौद्ध हो?’’

‘‘हाँ’’ सोम्‍मार्ट ने ताज्‍जुब से कहा। आदमी ने आगे पूछा, ‘‘क्‍या तुम जन्‍म–पत्री में विश्‍वास करते हो?’’

सोम्‍मार्ट जवाब देने से हिचकिचा रहा था। मैं परिस्थिति समझ रहा था और मुझे डर था कि सोम्‍मार्ट कहीं उसके जाल में न फँस जाए, मैं बोल पड़ा,

‘‘ये बस व्‍यक्तिगत दिलचस्‍पी है।’’

उसने यूँ सिर हिलाया, जैसे इस बात को जानता है। फिर उसने किताब की कीमत पूछी और सोम्‍मार्ट के लिये उसे खरीद लिया। सोम्‍मार्ट इस प्रतिक्रिया से कुछ चौंक गया। उसे समझना मेरे बस के बाहर की बात थी। उसने एक-तरफा बात-चीत शुरू कर दी, स्‍वगत भाषण, धर्मों पर और आध्‍यात्मिकता पर। हम उसकी बातों पर पूरा ध्‍यान दे रहे थे, सिर्फ इसलिये कि उसका मन पढ़ सकें और यह पता कर सकें कि वह किस तरह का आदमी है। उसके हुलिए और उसकी बातों के आधार पर मैं उसे कोई धार्मिक कट्टरपंथी कहूँगा।

उसका मुख्‍य उद्धेश्‍य था धर्म के प्रति उसके अपने मूल्‍यांकन को लोगों में फैलाना। इस लिये, मेरे दिमाग पर कोई प्रभाव नहीं पडा़। मैं तो इसे एक आकास्मिक आश्‍चर्य कहूँगा, बस, और कुछ नहीं।

हम १०४ नंबर की बस पकड़ कर होस्‍टल की ओर चले। जब हम दरियागंज पहुँचे (लाल किले के निकट), तो हमने अपना इरादा बदल दिया और वहाँ फुटपाथ पर लगी ढेर सारी पुस्‍तकों की प्रदर्शनियों के लिये वहाँ उतर पड़े। ज्‍यादातर किताबें बेकार की थीं, फटी हुई और गन्‍दी। अपने लालच को रोक न पाने से मैंने दो किताबें खरीद ही ली १२० रू० में।

हम वहाँ से हटे, कुछ आगे चले लाल किले की ओर कपडे देखने के लिए जिनकी ढेर सारी किस्‍में वहाँ रखी थीः कोट, ओवर-कोट, स्‍वेटर और भी न जाने क्‍या-कया। उन्‍हें देखते-देखते थककर हमने वापस जाकर लाल किले वाले बस-स्‍टॉप से बस पकड़ने का निश्‍चय किया, वहाँ हमें फागा मिली जो थाई लोगों की चर्चा का केन्‍द्र थी। वह अपने फलैट पर जा रही थी। हमने भी वही बस पकड़ी और मॉल-रोड तक हम साथ ही रहे। वह शेखी मार रही थी, जैसे वह अपनी किस्‍म की एक ही थी। ये भी एक चौंकाने वाला संयोग था।

आज रात मेरे होस्‍टल में खाना नहीं था इसलिए मुझे और सोम्‍मार्ट को खाने के लिये कहीं और जाना पडा। हमने ग्‍वेयर हॉल में खाना खाया। खाना एकदम बेस्‍वाद थाः दाल, सब्‍जी और चावल – हमेशा ही की तरह। मैं नहीं कह सकता कि आज का दिन ‘उल्‍लेखनीय’ था।

मैं थक गया था, मेरी जान, मैं जल्‍दी सोना चाहता था। अगर सलामत रहा तो तुमसे मिलूँगा। मैं तुमसे सपने में मिलूँगा।

शुभ रात्रि, मेरे प्‍यार।

Share with:


Charumati Ramdas

I am a retired Associate Prof of Russian. I stay in Hyderabad. Currently keep myself busy with translations of Russian works into HIndi.

Random Posts

Placeholder Image 90

Thewriterfriends.com is an experiment to bring the creative people together on one platform. It is a free platform for creativity. While there are hundreds, perhaps thousands of platforms that provide space for expression around the world, the feeling of being a part of fraternity is often lacking. If you have a creative urge, then this is the right place for you. You are welcome here to be one of us.

Random Posts

BENGALURU RIOTS, August 11 2020

By Suresh Rao | August 24, 2020

(pic-1) Riot torn KG Halli (a minority stronghold.) Hundreds of vehicles were burnt, 2 police stations and an MLA’s house were burnt down too. Note: ‘DH photos’ have copyrights on picture above. (pic-2) Sane residents of area that included educated Muslims,  JD(S) party reps,  other Good Samaritans formed Human Chains to protect Hindu temples in…

Share with:


Read More

My journey as a writer.

By RAMARAO Garimella | July 6, 2020

I have written many reports during my service in the Navy, and my seniors have appreciated them. Once, when the Eastern Naval Command brought out a bulletin, the editor wanted to include a short story to provide comic relief. The editor thought my piece would need clearance of the Admiral since it poked fun at…

Share with:


Read More

KARKIDAKA VAVU BALI-THE DAY WHEN SPIRITS COME ALIVE:

By Unnikrishnan | July 21, 2020

KARKIDAKA VAVU BALI-THE DAY WHEN SPIRITS COME ALIVE: Beneath everything lies trust and faith. It is only because of our Ancestors that we live and thrive in the present. A fact that is undeniable, in both biological as well spiritual senses. World over propitiating spirits is a practice that is done with fervor and dedication.…

Share with:


Read More

Living At Constance Lodge—-Part 5

By Navneet Bakshi | September 20, 2021

She used to be in the kitchen and the aroma of preparations for the breakfast wafting through the air aroused my hunger. She had a lot of work to do in the morning as four of her children and a short-tempered husband had to be served the breakfast and all of them had to be…

Share with:


Read More

British Move in to issue more passports to Singaporeians

By Subramanian Thalayur Ratnam | July 2, 2020

Bold steps to ensure crisis ridden Singapore citizens to adopt United Kingdom as their alternate nation. It is under process by UK to issue more passports to those Singapore citizens as they are under stress due to the new laws by Chinese.  According to some news reports Britain move to help those Singapore citizens to…

Share with:


Read More

वड़वानल – 34

By Charumati Ramdas | August 7, 2020

लेखक: राजगुरू द. आगरकर अनुवाद: आ. चारुमति रामदास       शनिवार   को   दस   बजे   की Ex.O. की रिक्वेस्ट्स और डिफॉल्टर्स फॉलिन हो चुके थे । ठीक सवा दस बजे लेफ्ट.   कमाण्डर स्नो खट्–खट् जूते बजाता रोब से आया । लेफ्ट. कमाण्डर स्नो रॉयल इंडियन नेवी का एक समझदार अधिकारी था,   गोरा–चिट्टा, दुबला–पतला । परिस्थिति…

Share with:


Read More

उंगली से शीशे पर लिखती हूँ नाम तुम्हारा

By Navneet Bakshi | February 28, 2021

  उंगली से शीशे पर लिखती हूँ नाम तुम्हारा और घबरा कर मिटा देती हूँ तुम क्या जानो मैं अपने दिल को तसल्ली किस किस तरह देती हूँ   एक तुम हो कि मेरा ख्याल भुलाए बैठे हो आँखों से दूर हो गए हो मगर दिल में समाये बैठे हो   चाहती हूँ मेरी गोदी…

Share with:


Read More

Slippery Carpet or Tight Rope Walk?

By Suresh Rao | May 15, 2022

Anand Mishra, writes in DHNS, New Delhi, MAY 15 2022, 22:42 IST  UPDATED: MAY 15 2022, 22:48 IST (pic) Credit: PTI Photo SENIOR COGRESS LEADERS GREET SONIA GANDHI (Congress President)  Facing the twin challenge of arresting Congress’s decline in most states and the need to recapture power at the Centre, Udaipur Nav Sankalp Declaration. Read more…

Share with:


Read More

OPINION – AGNIPATH Initiative By Defence Minister (Raksha Mantri) Of India Is Commendable

By Suresh Rao | June 19, 2022

(photo) courtesy CNN News18 AGNIPATH is the name assigned to an initiative by Government of India to recruit ‘volunteering’ males and females between ages of 17.5 and 26 (upper age limit extended recently, to accommodate more candidates who had previously applied to join but could not join due to COVID pandemic…) for ‘short-term’ employment in…

Share with:


Read More

2021 in review

By Prasad Ganti | December 31, 2021

Wishing everyone a happy new year 2022 while reviewing the events of the year 2021. It started with President Trump’s supporters storming the citadel of American democracy. And the very slow pace of Covid vaccinations all over the world. The world is certainly in a better shape than it was at the beginning of the…

Share with:


Read More