Sign Up    /    Login

मैं अपना प्यार – ४

लेखक: धीराविट पी. नागात्थार्न

अनुवाद: आ. चारुमति रामदास

*Amor ut lacrima ab aculo oritur in pectus cadit (Latin): प्‍यार एक आँसू की तरह, आँख से निकल कर सीने पर गिरता है – प्‍यूबिलियस साइरस (fl.1st Century BC)

चौथा दिन

जनवरी १४,१९८२

उम्‍मीद है कि अब तक तुम अपने माता-पिता और रिश्‍तेदारों से बातें कर चुकी होगी। मैं समझता हूँ  कि उनके साथ तुम खुश होगी। थाई खाने ने किसी बिछड़े हुए दोस्‍त की तरह तुम्‍हारी जुबान को छुआ होगा। वहाँ के क्‍या हाल हैं? आमतौर से, मेरा मतलब है, मैं खुश हूँ, इसलिये कि तुम खुश हो। तुम्‍हारी खुशी मेरे लिये सबसे महत्‍वपूर्ण चीज़ है।

तुम चाहे जहाँ भी हो, जो भी कर रही हो, मैं अभी भी तुमसे प्‍यार करता हूँ। मेरी भावनाएँ वहीं हैं – तुम्‍हारे बगैर जिन्‍दगी असहयनीय है, बर्दाश्‍त से बाहर है, और अंधेरी है। मैं दिनभर में हजारों बार तुम्‍हारे मेरे पास वापस आने की तमन्‍ना करता हूँ।

कल रात मैं बड़ी गहरी नींद सोया – आराम की नींद, बिना किसी सपने की, इसलिये मैंने सुबह का स्‍वागत हँस कर किया। आज मैंने हम दोनों ही के लिये फायदेमन्‍द काम किये। सुबह दस बजे पहले मैं मि० कश्‍यप के घर गया और तुम्‍हारा काम उनकी पत्‍नी को दे दिया। वे घर पर नहीं थे, मगर उन्‍होंने मुझे अन्‍दर आने और एक प्‍याली चाय पीने की दावत दी। मैंने नम्रता से माफ़ी माँग ली, यह कहते हुए कि मैं फिर से मि० कश्‍यप से मिलने आऊँगा।

फिर मैं लिंग्विस्टिक्‍स डिपार्टमेन्‍ट गया कुछ लेक्‍चरर्स से मिलने जो मुझे अपना रिसर्च टॉपिक चयन करने में मदद कर सकेंगे। मैं प्रोफेसर सिन्‍हा से मिला और उनसे सलाह माँगी। उन्‍होंने मुझे ‘नेगेशन (प्रत्‍याख्‍यान)’ पर कुछ पुस्‍तकों के नाम दिये और मेरे कार्य की रूप रेखा बनाई। उनकी सलाह से मुझे बड़ी राहत मिली। मैंने डिपार्टमेन्‍ट – लाइब्रेरी से वह पुस्‍तक ली और युनिवर्सिटी कैन्‍टीन आया अपनी भूख मिटाने जो मुझे परेशान कर रही थी।

केम्‍पस में कर्मचारियों की हडताल अभी भी चल रही है। दिन भर में एक लम्‍बा जुलूस निकल ही जाता है। नारे, माँगे और विरोध उनकी हड़ताल की मुख्‍य बातें हैं, सेन्‍ट्रल लाइब्रेरी के सामने प्रदर्शनकारियों का एक समूह भाषणबाजी कर रहा था अधिक गतिशीलता, अधिक आंदोलनकारियों, अधिक सहभागियों के लिये।

भगवान ही जानता है कि उन्‍हें कितनी सफलता मिली है। ये हर साल ही होता है – मौसम की तरह मगर इससे हासिल कुछ भी नहीं होता। उनकी माँगों के कोई जवाब नहीं दिये जाते। कैसी बुरी हालत है! इस बेकार की हड़ताल से ‘बोर’ होकर मैं डिपार्टमेन्‍ट गया, यह पता करने के लिये कि क्‍या मैं ‘हेड’ से मिल सकता हूँ, इसके बाद गया युनिवर्सिटी कैन्‍टीन। वहाँ मुझे मिले वुथिपोंग, चवारा, प्राचक, और आराम पोल्‍ट्री, जिसने हाल ही में भिक्षु-वस्‍त्र छोड़ दिये हैं। अपनी नई ड्रेस में आराम बड़ा बढि़या लग रहा है। हमने वहीं पर एक छोटी सी पार्टी की और फिर अपने-अपने होस्‍टल चले गए।

शाम को वुथिपोंग फिर मेरे कमरेमें आया। उसने अपने एक-तरफा प्‍यार पर किये गए खतरनाक प्रयोग की प्रगति के बारे में बताया। वह काफी दृढ़ और स्थिरचित्‍त लग रहा था। उसने वादा किया कि चाहे जितना भी कठिन हो, वह अपनी भावनाओं पर काबू पाने की कोशिश करेगा, मैंने उसका हौसला बढ़ाया और उसे इस प्रेम-त्रिकोण से – तीन आदमी और एक लड़की वाले खेल से बाहर निकलने के लिये उसकी मिन्‍नत की। उसने मुझसे और सोमार्ट से उसके साथ पिंग-पाँग खेलने के लिये कहा, मगर हमने यह कहकर माफी़ मांग ली कि हमें इसी समय कई काम करने हैं। वह कमरे से खुश होकर बाहर गया।

एक मजेदार बात हुई पी०जी० वूमेन्‍स होस्‍टल में साढे़ बाहर बजे। मैं वहाँ गया टेप-रिकार्डर, ब्‍लैन्‍केट और बाकी चीजें, जो तुमने मेरे लिये छोडी थीं – लेने ‘ओने’ ने मुझे वे चीजें दीं, मगर वह उनके साथ बाहर नहीं निकल सकी। डयूटी वाले चौकीदार ने गेट-पास पूछा, जिसकी ओने को उम्‍मीद नहीं थी। उसे वार्डन के पास जाना पडा़। जब मैं होस्‍टेल-गेट पर इंतजार कर रहा था तो मुझे शुक्‍ला मिली (मैं अपनी डायरी में उसका जिक्र कर चुका हूँ)। मैंने उसे अपनी समस्‍या के बारे में बताया। उसने वादा किया कि वह जल्‍द से जल्‍द इसे सुलझा देगी। कुछ ही मिनटों बाद समस्‍या हल हो गई, शांतिपूर्ण तरीके से। धन्‍यवाद ओने को और शुक्‍ला को।

डिनर के बाद मैंने कुछ देर पढ़ाई की, मगर कुछ भी समझ में नहीं आया। मेरा दिमाग तो सैकडों मील दूर था, वह तुम्‍हारे पास जा रहा था। क्‍या तुमने महसूस किया? कुछ कर पाना मुश्किल था, मैंने तय कर लिया कि मैं सो जाऊँगा और तुमसे मिलूँगा सपने में – उस काल्‍पनिक दुनिया में। जल्‍दी ही तुमसे मिलूँगा, मेरी जान!

Share with:


Charumati Ramdas

I am a retired Associate Prof of Russian. I stay in Hyderabad. Currently keep myself busy with translations of Russian works into HIndi.

Random Posts

Placeholder Image 90

Thewriterfriends.com is an experiment to bring the creative people together on one platform. It is a free platform for creativity. While there are hundreds, perhaps thousands of platforms that provide space for expression around the world, the feeling of being a part of fraternity is often lacking. If you have a creative urge, then this is the right place for you. You are welcome here to be one of us.

Random Posts

Indian Army to Patrol lake Pangong Tso in boats from coming summer!

By Suresh Rao | January 2, 2021

A copy/paste article from www.Deccan Herald.com ITBP personnel on the banks of Pangong Tso, in Ladakh. Representative image/Credit: PTI File Photo With no signs of troop de-escalation on the Ladakh front, the Indian Army on Friday decided to purchase 12 fast patrol boats from Goa Shipyard, presumably for improving surveillance in Pangong Tso through which…

Share with:


Read More

14 Peaks – nothing is impossible

By Prasad Ganti | December 13, 2021

Nirmal Purja of Nepal has achieved something which is nearly impossible. By climbing the world’s 14 tallest mountains in a span of 7 months. Climbing just one of them is a tall order, but all of them in such a short span of time. Hence the title of a recent documentary telling the story of…

Share with:


Read More

सिर्योझा – 8

By Charumati Ramdas | January 22, 2021

लेखिका: वेरा पनोवा अनुवाद: आ. चारुमति रामदास   परदादी का दफ़न परदादी बीमार हो गई, उसे अस्पताल ले गए. दो दिन तक सब कहते रहे कि जाकर उसे देखना चाहिए, और तीसरे दिन जब घर में सिर्फ सिर्योझा और पाशा बुआ थे, नास्त्या दादी आ गई. वह हमेशा से भी ज़्यादा तनी हुई और गंभीर…

Share with:


Read More

Getting Ready – Aero India Show at Bengaluru (Feb 3 to Feb 5)

By Suresh Rao | February 1, 2021

Excerpts from the post of Nina C George, DHNS, Bengaluru, Jan 31 2021, 23:45 IST updated: Feb 01 2021, 03:39 IST Disclaimer: ALL PHOTOS BY COURTESY, Deccan Herald Bangalore.  India’s helicopter and fighter aircraft display teams are presenting their first-ever joint display at the Aero India show at the Yelahanka Air Force Station, Bengaluru, between…

Share with:


Read More

घर में

By Charumati Ramdas | September 15, 2021

लेखक: अंतोन चेखव अनुवाद: आ. चारुमति रामदास घर में       “ग्रिगोरेवों के यहाँ से किसी किताब के लिए आए थे, मगर मैंने कह दिया कि आप घर में नहीं हैं. पोस्टमैन अख़बार और दो चिट्ठियाँ दे गया है. वो, येव्गेनी पेत्रोविच, मैं आपसे कहना चाह रही थी कि कृपया सिर्योझा पर ध्यान दें.…

Share with:


Read More

‘Good Girls go to heaven and bad ones can go anywhere’ – Teenage बुदम’s (Moron) dilemma.

By Vipin Kaushik | January 30, 2021

Preface: Character बुदम is about me (not fiction). Let me start with why I felt that I was बुदम. While growing up in Chamba, I used to get all kind of punishments in the school like बिच्छू बूटी treatment, मुर्गा आसन, बेंत treatment, standing hands up, etc., etc., When this did not work teachers started…

Share with:


Read More

THE ALBATROSS

By Neelmani Bhatia | August 7, 2020

THE ALBATROSS   Bhaiya, Bhaiya, here’s  the telegram your first posting”,- Seema ran in shouting  at the top of her voice. I hurriedly got  up from the bed. With nothing to do, I used to spend most of my waking hours in the bed.  I knew I had been selected for IPS and was waiting…

Share with:


Read More

Decoding The Crimson Island

By Charumati Ramdas | July 31, 2020

Decoding M.Bulgakov’s The Crimson Island A.Charumati Ramdas The Crimson Island, written by the author of Master and Margarita, remains one of the most mysterious plays of world. Looking quite innocent on the surface, the play, which saw the stage just for one theatrical season, only in Moscow, was first published as a satirical sketch on 20th April 1924 in…

Share with:


Read More

कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती

By Yash Chhabra | September 7, 2020

इस हफ्ते की शुरुआत भी अच्छी नहीं रही। पूर्व राष्ट्रपति श्री प्रणब मुखर्जी जो कि राजनीति के गलियारों में प्रणब दा के नाम से जाने जाते थे, इस संसार को अलविदा कह गए। दशकों तक देश को अपनी सेवा देने वाले प्रणब मुखर्जी बहुमुखी प्रतिभा के मालिक थे. उनका शुरुआती जीवन संघर्ष भरा था। पढ़ने…

Share with:


Read More

About Kainths And Kheeras

By Navneet Bakshi | July 18, 2021

…..this post is in continuation of the post titles “Walking To The School” Nettles- Stinging Plant I remember one tree on this path somewhere further up from the point where the stairs leading to the police lines joined it. It was a Kainth tree. I am sure, even today the advanced Google search engines can’t…

Share with:


Read More