Sign Up    /    Login

मैं अपना प्यार…. २

लेखक:

धीराविट पी, नात्थगार्न

अनुवाद: आ. चारुमति रामदास

*Homo totiens moritur quotiens amittil suos (Latin): जब तुम अपने प्रिय व्‍यक्ति को खो देते हो, तो तुम्‍हारा कुछ हिस्‍सा मर जाता है – प्‍यूबिलियस साइरस (fl.1st Century BC)

दूसरा दिन

जनवरी १२,१९८२

आज पहला दिन है तुम्‍हारे बगैर इस तेजी से बदलती जिन्‍दगी की वास्‍तविकताओं का सामना करने का। ये न तो अन्‍त का आरंभ है और न ही आरंभ का अन्‍त। ये बिल्‍कुल विपरीत है – आरंभ का आरंभ। हमारी जिन्‍दगियों के क्षितिज आगे चलकर हमें एक दूसरे के निकट ले आएंगे, उम्‍मीद करता हूँ।

सुबह मैं देर से उठा, रात भर डरावने सपने देखने से सिर भारी था। ‘मेस’ में नाश्‍ते के लिये कुछ नहीं बचा था क्‍योंकि मैं खूब देरी से उठा था। मैंने होस्‍टल में महीने की फीस के १९९ रू० भर दिये, और इसके बाद ‍सेन्‍ट्रल लाइब्रेरी की ओर चल पड़ा अपनी अच्‍छी दोस्‍त किरण को किताब लौटाने, जिसकी ड्यू-डेट कब की निकल चुकी थी। कोई फ़ाईन नहीं लगा। बड़ी मेहेरबानी की उसने! मैंने उससे ‘बाय!’ कहा कृतज्ञता की गहरी भावना से, फिर मैं लाइब्रेरी साइन्‍स डिपार्टमेन्‍ट गया।

वहाँ, संयोगवश, लिंग्‍विस्‍टिक्‍स की पुरानी सह-छात्रा से मिला जो आजकल अच्‍छी नौकरी की संभावना के लिये लाइब्रेरी साइन्‍स के कुछ कोर्स कर रही है। वह बड़े अच्‍छे स्‍वभाव की है, उसने एक पल रूककर मुझसे बात की। मैं मि० बासित का इंतजार कर रहा था। अपनी क्‍लास खत्‍म करने के बाद वे अपने कमरे में आए। मैंने दरवाजा खटखटाया और अन्‍दर आने की इजाज़त मांगी।

उन्‍होंने मुस्‍कुरा कर मुझसे बैठनेके लिए कहा। मैंने उन्‍हें अपने आने का मकसद बताया और तुम्‍हारा पत्र तथा तुम्‍हारी थीसिस का तीसरा चैप्‍टर दे दिया। उन्‍होंने पत्र पर नज़र दौड़ाई और मुझसे मेरा पता पूछा जिससे वह मुझसे संपर्क कर सकें। थोड़ी सी भूख लगी थी, मैंने एक कप कॉफी पी स्‍नैक्‍स के साथ यूनिवर्सिटी कैन्‍टीन में।

पी०जी० मेन्‍स होस्‍टल में वापस लौटते हुए मैं जुबिली एकस्‍टेन्‍शन हॉल में गया यह देखने के लिये कि आराम वहाँ है या नहीं। वह बाहर गया था, मुझसे किसी ने कहा कि वह आज ही शाम को भिक्षु-जीवन छोड़ रहा है। किसी महिला की आवाज़ सुनकर मैं खयालों से बाहर आया – ये शुक्ला थी, मेरी कनिष्‍ठ-छात्रा लिंग्‍विस्‍टिक्‍स की – हम कुछ देर बातें करते रहें। शाम को वुथिपोंग मातमी चेहरा लिये मेरे कमरे में आया। उसने अपने एक-तरफ़ा प्‍यार के बारे में दिल खोल कर रख दिया। मुझे उसके बारे में बहुत दुख हो रहा था, मैंने उसे कुछ सुझाव दिये मगर उसे वे ठीक नहीं लगे। इसलिए मैंने अपनी ओर से उसका हौसला बढ़ाने की पूरी कोशिश की, और वह संतुष्‍ट होकर मेरे कमरे से गया। उसे एक बार फिर दुनिया जीने के लायक लगने लगी; मैं खुश था कि मैं उसके कुछ तो काम आ सका।

जहाँ तक मेरा सवाल है, मैं अभी भी अनिश्चितता की दुनिया में हूँ। मेरी जिन्‍दगी का रास्‍ता कई सारे संयोगों और परिस्थि‍तियों पर निर्भर करता है। जिन्‍दगी ऐसी ही होती है! इन्‍सान को हर क्षण सम्‍पूर्णता से जीना चाहिए। क्‍या सभी इस तथ्‍य को जानते और स्‍वीकार करते है?

Share with:


5 1 vote
Article Rating

Charumati Ramdas

I am a retired Associate Prof of Russian. I stay in Hyderabad. Currently keep myself busy with translations of Russian works into HIndi.
2 Comments
Newest
Oldest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Navneet Bakshi
Navneet Bakshi
22 days ago

ज़िंदगी कैसी होनी चाहिए और क्या जीने को मिलती है यह सवाल तो हम सब के समक्ष समय समय पर आता ही है लेकिन सब कुछ छोड़ कर भिक्षु बननें का विचार हर किसी के मन में नहीं आता। वैसे ऐसा करना कुछ धर्म प्रधान समुदायों में सराहा जाता है पर निश्चय ही ऐसा करना सरल नहीं ।

Random Posts

Placeholder Image 90

Thewriterfriends.com is an experiment to bring the creative people together on one platform. It is a free platform for creativity. While there are hundreds, perhaps thousands of platforms that provide space for expression around the world, the feeling of being a part of fraternity is often lacking. If you have a creative urge, then this is the right place for you. You are welcome here to be one of us.

Random Posts

From My Audio & Video Collections….

By Navneet Bakshi | May 16, 2020

I have lived a great part of my life away from home. But that is not unusual. So many  people are doing the jobs where their call of duty demands them to be away from home occasionally for short or long periods. Defense personnel in particular spend a lot of time away from their families,…

Share with:


Read More

Why We Should Write Daily?

By Rcay | February 13, 2022

  Why We Should Write Daily? Writing is a skill that we can develop as it is a part of communication in everyday life. We communicate with ourselves, whether we are communicating with others or making a shopping list. Writing can do wonders, as we all have something to say about something.  At the same…

Share with:


Read More

Bengaluru Startup developing Heat Tolerant Covid-19 Vaccine

By Suresh Rao | November 6, 2020

A startup incubated in the Indian Institute of Science (IISc), Bengaluru, is developing a Covid-19 Vaccine that can be stored at 37 degrees Celsius, a development that could be a game-changer for India which lacks sufficient cold chain facilities. “All (Covid) Vaccine candidates in clinical trials currently require refrigerated temperatures of at least four degrees.…

Share with:


Read More

REALITIES…..

By Ushasurya | July 27, 2020

REALITIES….. Divya came out of the Art Gallery and paused near the flight of steps for a while. Not that she wanted to go back and have a look at the exhibits again. No way, she said to herself.She started walking towards home. It was well past noon and there was no sun in the…

Share with:


Read More

Indian American, Dr Vivek Murthy, likely to head Biden’s Corona Task force in USA

By Suresh Rao | November 10, 2020

(photo) Vivek Murthy, MD (Source: PTI, Washington, Nov 08 2020, 11:37 IST updated: Nov 08 2020, 11:38 IST.) Physician of Indian-American/British origin, Dr Vivek Murthy is expected to co-chair the coronavirus task force which President-elect Joe Biden is likely to announce on Monday.  Dr Murthy, 43, originally hails from Karnataka; he was appointed America’s 19th…

Share with:


Read More

Baba Ka Dhabha…Part 2

By Navneet Bakshi | November 23, 2020

KBC Moment of Kanta Prasad Link to access Part 1……….https://thewriterfriends.com/kbc-moment-for-kanta-prasad-part-1/ Let’s see things from Mr. Gaurav Wasan’s point of view.  Surely, he wanted to do something for the poor man who was starving but, he didn’t want to see him become an owner of a five-start hotel, flaunting his BMWs while he himself remained a…

Share with:


Read More

Diwali is fast approaching….

By Ushasurya | November 6, 2020

  From Grandma’s Kitchen… Diwali Special Rava Laddus Grandma’s Kitchen opens this Diwali season with a recipe for making those delicious Rava Laddus. The procedure is very simple and anybody can make these mouth-watering laddus in a few minutes. The health benefits that are packed in this simple item are various. This is called semolina…

Share with:


Read More

NOOSE

By Suresh Rao | August 9, 2020

Synopsis: This is a fictional story. The main character in this story is an young lawyer who graduates at the top of his class from a  law school and joins the law firm of a famous criminal lawyer. The young lawyer wants to abolish ‘capital punishment’ in the country as he feels that many a…

Share with:


Read More

Visit Aquarium if you have to wait long for a train connection at Railway Station!

By Suresh Rao | July 8, 2021

The Indian Railway Station Development Corporation (IRSDC) Limited has built the Bengaluru City Railway Station Aquarium in collaboration with HNi at a cost of Rs 1.2 crore with the aim of enhancing the passenger experience at the station. Passengers who enter the Aquatic Kingdom can now catch a glimpse of live sharks and exotic fish…

Share with:


Read More

घर में

By Charumati Ramdas | September 15, 2021

लेखक: अंतोन चेखव अनुवाद: आ. चारुमति रामदास घर में       “ग्रिगोरेवों के यहाँ से किसी किताब के लिए आए थे, मगर मैंने कह दिया कि आप घर में नहीं हैं. पोस्टमैन अख़बार और दो चिट्ठियाँ दे गया है. वो, येव्गेनी पेत्रोविच, मैं आपसे कहना चाह रही थी कि कृपया सिर्योझा पर ध्यान दें.…

Share with:


Read More