Sign Up    /    Login

मैं अपना प्यार – १४

लेखक: धीरावीट पी. नागत्थार्न

अनुवाद: आ. चारुमति रामदास

 

*Animo virum pudicae non oculo eligunt (Latin) : समझदार औरतें मर्द चुनने में दिल से नहीं, बल्कि दिमाग से काम लेती हैं – प्‍यूबिलियस साइरस F1 1st Century BC

चौदहवाँ दिन

जनवरी २४,१९८२

कल मैंने ‘‘रैगिंग ने विद्यार्थी की जान ली,’’ इस समाचार पर ध्‍यान नहीं दिया, क्‍योंकि मैंने इसे महत्‍वपूर्ण नहीं समझा था। मगर आज वही समाचार फिर से प्रकाशित हुआ इसने पूरे देश को हिलाकर रख दिया। प्रेसिडेन्‍ट श्री एन० संजीव रेड्डी ने राज्‍य सरकारों और शिक्षा संस्‍थानों से अपील की कि वे इस ‘‘क्रूर’’ एवम् ‘‘तेजी़ से फैलती बुराई – रैगिंग’’ को रोके। आँसू भरी आवाज में श्री रेड्डी ने रैगिंग करने वालों से पूछाः ‘‘क्‍या तुम लोग विद्यार्थी हो? क्‍या तुम कॉलेजों में पढ़ने के लिये आते हो?’’ स्‍टेट्समेन के अनुसार, रैगिंग ने, जिसकी ‘‘घृणित प्रथा’’ कहकर निन्‍दा की जाती है, जिसमें मेडिकल और इंजीनियरिंग कॉलेजों के सीनियर विद्यार्थी फ्रेश छात्रों की रैगिंग करते हैं, आज अपनी पहली बलि ले ली बैंगलोर युनिवर्सिटी में। उस छात्र ने, जो रैगिंग के अपमान को बर्दाश्‍त न कर पाया, इस घृणित प्रथा के विरोध में आत्‍म हत्‍या कर ली। रैगिंग-दिवस की थाई विश्‍वविद्यालयों में ‘‘नये छात्रों का स्‍वागत करने’’ की प्रथा से तुलना की जा सकती है, जो एक समय में बहुत प्रचलित थी। पता नहीं वह आज भी है या नही। ये थी आज की शोकपूर्ण खबर !

तुम्‍हारे दिल्‍ली से जाने के बाद यह दूसरा इतवार है। मैं लगभग पूरे दिन कमरे में बन्‍द रहा। बाहर जाना अच्‍छा ही नहीं लगता। अपने कमरे में ही पड़े रहना मुझे बड़ा़ अच्‍छा लगता है, मगर तुम्‍हारी बड़ी याद आती है। कुछ भी नहीं किया जा सकता, क्‍योंकि तुम मुझसे हजारों मील दूर हो। क्‍या तुम एक पल के लिये भी मुझे याद करती हो? शायद नहीं, अगर तुम्‍हें मेरी याद आती, तो तुम मुझे खत लिखती। मगर, तुम तो जानती हो कि मुझे तुम्‍हारी कोई खबर नहीं मिली है। क्‍या इसका मतलब ये हुआ कि तुमने मुझे छोड़ दिया है? जवाब देना मुश्किल है और मैं किसी जवाब को बर्दाश्‍त भी नहीं कर पाऊँगा। मुझे तकलीफ होती है यह सोचकर कि तुम मेरा खयाल उम्‍मीद से कम रखती हो। ये किसी का भी दोष नहीं है। ये सिर्फ वक्‍त का और जिन्‍दगी की जरूरत का मामला है। मैं इसके लिये तुम्‍हें दोष नहीं दे सकता। बल्कि मैं अपने आप को ही दोष दॅूगा कि मैं जिन्‍दगी के प्रति इतना काल्‍पनिक हूँ।

शाम को, करीब 5.30 बजे, मैं मि० कश्‍यप के पास गया तुम्‍हारे काम के बारे में पूछ-ताछ करने के लिये। जब मैं वहाँ पहुँचा तो वे अकेले थे। मैंने उनसे तुम्‍हारे काम के बारे पूछा और यह भी बताया कि मैं कुछ दिन पहले भी आया था। उनहोंने तुम्‍हारा काम अभी तक देखा नहीं है, मगर यह कहा कि तुम्‍हारा काम बढि़या है, क्‍योंकि शुरू करनेसे पहले तुमने उनसे अच्‍छी तरह विचार विमर्श कर लिया था। अब तुम चैन की सॉस ले सकती हो। चिन्‍ता की कोई बात नही। उन्‍होंने मुझसे तुम्‍हारा पता पूछा। मैंने कहा कि तुम्‍हारे पत्र में पता लिखा है। उन्होंने उसे देख लिया और वादा किया कि वे खुद ही तुम्‍हें सूचित करेंगे। वे वाकई में तुम्‍हारी रिसर्च के काम में तुम्‍हारी मदद करना चाहते है। उनके उत्‍साह ने मुझे बहुत प्रभावित किया। तुम्‍हारे काम को एक तरफ रख कर मैंने रिसर्च मेथोडोलॉजी पर कुछ मशविरा किया। रिसर्च कैसे शुरू करना चाहिए, इस बारे में उन्‍होंने एक बड़ी उपयोगी सलाह दी। 6.30 बजे परिवार के सब लोग इकट्ठा हो गए। मैंने प्रसन्‍नता से सबका अभिवादन किया और खास तौर से श्रीमती कश्‍यप से ‘नमस्‍ते’ कहा। हमने चाय पी और फिर टी०वी० देखा। इतवार की हिन्‍दी फिल्‍म दिखाई जा रही थी। फिल्‍म एक गरीब परिवार के बारे में थी, जिसके पिता किसी तिकड़म से परिवार की गाड़ी खींच रहे हैं। उन्‍हें रास्‍ते की एक होटल से खाना चुराते हुए पकडा़ गया और दो साल के लिये जेल भेज दिया गया। उन्‍होंने जेल से भागने की कोशिश की मगर पकडे़ गए। इस बार उन्‍हें पाँच साल की कैद की सजा सुनाई गई – वह भी बामशक्‍कत। जब उन्‍होंने अपनी सजा पूरी कर ली तो उन्‍हें रिहा कर दिया गया। मगर समाज ने उन्‍हें ठुकरा दिया। किसी ने उन्‍हें समाज का सदस्‍य नहीं माना। हर जगह उन पर प्रतिबन्‍ध लग गया। एक जेल का पंछी समाज द्वारा अस्वीकृत ही कर दिया जाता है, भले ही उसने खुद को सुधार क्‍यों न लिया हो। कैसे समाज में रहते हैं हम! मगर सौभाग्‍यवश उसकी मुलाकात ‘गुरू’ से होती है जो उसे तराश कर हीरा बना देते हैं। तब से वह धार्मिक जीवन जीने लगे। सुखद अन्‍त! बुराई इस तरह से अच्‍छाई में बदल जाती है।

 

Share with:


Charumati Ramdas

I am a retired Associate Prof of Russian. I stay in Hyderabad. Currently keep myself busy with translations of Russian works into HIndi.

Random Posts

Placeholder Image 90

Thewriterfriends.com is an experiment to bring the creative people together on one platform. It is a free platform for creativity. While there are hundreds, perhaps thousands of platforms that provide space for expression around the world, the feeling of being a part of fraternity is often lacking. If you have a creative urge, then this is the right place for you. You are welcome here to be one of us.

Random Posts

वड़वानल – 34

By Charumati Ramdas | August 7, 2020

लेखक: राजगुरू द. आगरकर अनुवाद: आ. चारुमति रामदास       शनिवार   को   दस   बजे   की Ex.O. की रिक्वेस्ट्स और डिफॉल्टर्स फॉलिन हो चुके थे । ठीक सवा दस बजे लेफ्ट.   कमाण्डर स्नो खट्–खट् जूते बजाता रोब से आया । लेफ्ट. कमाण्डर स्नो रॉयल इंडियन नेवी का एक समझदार अधिकारी था,   गोरा–चिट्टा, दुबला–पतला । परिस्थिति…

Share with:


Read More

सिर्योझा – 15

By Charumati Ramdas | March 8, 2021

लेखिका: वेरा पनोवा अनुवाद: आ. चारुमति रामदास खल्मागोरी   खल्मागोरी. मम्मा से करस्तिल्योव  की बातचीत में यह शब्द सिर्योझा अक्सर सुनता है. “ तुमने खल्मागोरी में ख़त लिखा?” “शायद खल्मागोरी में इतना व्यस्त नहीं रहूँगा, तब मैं राजनीतिक-अर्थशास्त्र की परीक्षा पास कर लूँगा.” “मुझे खल्मागोरी से जवाब आया है. लड़कियों के स्कूल में नौकरी दे…

Share with:


Read More

Bringing Porbartan- Saved Word File

By Navneet Bakshi | June 24, 2020

Bringing Porbartan- navneet / 1 month ago / 15 Edit Blog Bringing Porbartan Porbartan is a Bengali word. The equivalent hindi word is “Parivartan” which means change. “Porbartan” was the slogan Mamta Banerjee raised for usurping power from the Marxists who held it for twenty-five years in West Bengal, the Indian state which has always…

Share with:


Read More

Rail Wheel manufacture made cheaper in India than import from China

By Suresh Rao | December 25, 2020

(pic) Splitting of a freshly cast wheel at the furnace of Rail Wheel Factory in Yelahanka Bangalore. Credit: DH Photo The Yelahanka Bangalore Rail Wheel Factory (RWF) has cut its manufacturing cost and is offering its products at a rate unmatched by its overseas competitors. RWF’s managing director Rajiv Kumar Vyas said automation and reform…

Share with:


Read More

Celebrated Author VIKRAM SAMPATH, Historian, author of Uncontested Legacy of Veer Savarkar

By Suresh Rao | February 19, 2022

NEWS FLASH: “The Delhi High Court on Friday restrained historian Dr. Audrey Truschke and other persons from publishing any defamatory material against historian Dr VIKRAM SAMPATH (presently, Columnist in India.)” VIKRAM SAMPATH is a celebrated author of 3 publications now; he was brought up, schooled in Bengaluru (view BIOGRAPHY*); He is an Electronics Engineering graduate,…

Share with:


Read More

मैं अपना प्यार…३

By Charumati Ramdas | July 18, 2022

लेखक: धीराविट नात्थगार्न अनुवाद: आ. चारुमति रामदास   *Cum ames non sepias aut cum sepias non ames (Latin): जब तुम प्‍यार करते हो तो सोच नहीं सकते, और जब तुम सोचते हो तो तुम प्‍यार नहीं कर सकते। प्‍यूबिलियस साइरस (fl.1st Century BC) तीसरा दिन जनवरी १३,१९८२ तुम्‍हारे बगैर जिन्‍दगी जीने लायक ही नहीं है। तुम वहाँ थाईलैण्‍ड…

Share with:


Read More

वड़वानल – 10

By Charumati Ramdas | July 19, 2020

लेखक: राजगुरू द. आगरकर अनुवाद: आ. चारुमति रामदास     10 छत के पास अलग–अलग रंगों के तारों का जाल फैला हुआ था । उन तारों के जाल के बीच की खोखली जगह में हाथ डालकर मदन ने कुछ काग़ज निकाले और उन्हें गुरु के सामने डाल दिया । गुरु ने उन काग़जों पर नजर…

Share with:


Read More

Walking To The School

By Navneet Bakshi | July 18, 2021

  Many times, I have thought of writing about the Bazaar, I crossed every day on my way to school and while coming back from it in the evening. As up to the 3rd standard, I attended Lady Irwin School, which lay in the opposite direction to where D.A.V., the senior school that I attended…

Share with:


Read More

वड़वानल – 69

By Charumati Ramdas | September 8, 2020

लेखक: राजगुरू द. आगरकर अनुवाद: आ. चारुमति रामदास     दोपहर ग्यारह बजे रॉटरे ने गॉडफ्रे का एक सन्देश रेडियो पर प्रसारित किया: ‘‘कल मैंने तुमसे कहा था कि परिस्थिति सामान्य करने के लिए सरकार के पास प्रचुर सैनिक बल उपलब्ध है। His Excellency Commander in Chief लार्ड एचिनलेक ने दक्षिण विभाग के ऑफ़िसर कमांडिंग…

Share with:


Read More

The Sun Scientist

By Prasad Ganti | April 2, 2022

I wrote the following article for the monthly newsletter of our astronomy club. My tribute to Dr. Eugene Parker, who passed away a few days back. He was a pioneer in the studies of the Sun. His ideas were rejected initially and later gained strength on the finding of evidence. A NASA spacecraft launched in…

Share with:


Read More