Sign Up    /    Login

मैं अपना प्यार – १२

लेखक: धीराविट पी. नागत्थार्न

अनुवाद: आ. चारुमति रामदास

*Littore quot conchae tot sunt in amore Dolores (Latin): दुनिया में गम इतने हैं, जितनी समुद्र तट पर सींपियाँ – Ovid 43 BC – AD C.17

बारहवाँ दिन

जनवरी २२,१९८२

हुर्रे ! दुनिया का एक और विशेष दिन हैः एकता दिवस। वाशिंग्‍टन, D.C., जनवरी २१ प्रेसिडेन्‍ट रीगन ने कल घोषणा की कि ३० जनवरी अमेरिका में ‘‘एकता दिवस’’ के रूप में मनाया जाएगा, निलम्बित पोलिश ट्रेड यूनियन के समर्थन में, रिपोर्टः ए०एफ०पी०।

‘‘एकता’’, उन्‍होंने कहा, ‘‘वास्‍तविक जगत में उस संघर्ष का प्रतीक है जब तथाकाथिन ‘‘मजदूर’’ मौलिक मानवाधिकारों और आर्थिक अधिकारों के समर्थन में खड़े हुए थे और उन्‍हें सन् १९८० में ग्‍दान्‍सक में विजय मिली थी। ये हैं – काम करने का अधिकार और अपने परिश्रम का फल पाने का अधिकार; एकत्रित होने का अधिकार; हड़ताल करने का अधिकार; और विचारों की स्‍वतन्‍त्रता का अधिकार’’ (दि स्‍टेट्समेन)

11.30 से 12.30 बजे तक लिंग्विस्टिक्‍स डिपार्टमेन्‍ट में एक सेमिनार था। रॉबर्ट डी०किंग, यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्‍सास के प्रसिध्‍द ऐतिहासिक-भाषविद् ने ‘‘सिंटेक्टिक चेंज (पदविन्‍यास-परिवर्तन) पर भाषण दिया। मैं सेमिनार में जाना चाहता था, मगर ऐन मौके पर मैंने न जाने का निश्‍चय कर लिया। दिल ही नहीं हो रहा था सेमिनार में जाने का। मुझे सबके सामने अपना तमाशा बनाना अच्‍छा नहीं लगता, इसलिये मैंने इस मौके का लाभ नहीं उठाया। मुझे लगता है कि मैं एक झूठे-स्‍वर्ग में रह रहा हूँ। सेमिनार में जाने के बदले मैं सोम्‍मार्ट के साथ किताबों की दुकान में गया, एक पत्‍थर-दिल को भूल जाने के लिये, जिसके लिये दिल में थोड़ी उम्‍मीद लिये जी रहा हूँ।

हमने ड्रेगोना-चाइनीज़ रेस्‍तराँ में लंच लिया। वापसी में सोम्‍मार्ट की नजर अपनी गर्ल-फ्रेण्ड पर पड़ी जो दूसरे लड़कों के साथ बैठी थी। उसे बहुत बुरा लगा। वह सोम्‍मार्ट को देखकर मुस्‍कुराई, मगर वह इतना निराश हो गया था कि मुस्‍कुरा न सका। मेरे साथ होस्‍टेल वह इस तरह आया जैसे उस पर वज्राघात हो गया हो। मैंने उसे ‘शांत रहने’ की सलाह दी, और रास्‍ते भर उसे चिढा़ता रहा। मगर, वह आधा खुश और आधा दुखी था। उसे लग रहा था कि दुनिया उसके विरूद्ध जा रही है। ‘‘प्‍यार का ऐसा तोहफा़’’ जिससे आदमी को पीडा़ होती है, मुझे हैरत में नहीं डालता। आदमी अपने आप से हारने लगता है। बाहय परिस्थितियों को अपना शिकार करने देता है। कुसूर किसका है? किसे दोष देना चाहिए? जवाब देने का दुःसाहस मैं नहीं करुँगा, क्‍योंकि मैं खुद भी उसी कश्‍ती पर सवार हूँ। जीवन परिस्थितियों से अलग नहीं हो सकता। इन्‍सान को जीवन की कई प्रक्रियाओं से गुजरना पड़ता है। खुशी,दुख, सफलता, असफलता इत्‍यादि। जीन पॉल सार्त्र ने एक बार कहा थाः ‘‘इन्‍सान अभिशप्‍त है मुक्‍त होने के लिये,’’ इसका सबूत ढूँढ़ने के लिये दूर जाने की जरूरत नहीं है।

जब आदमी अथाह दुख में डूब जाता है, तो उसके आँसुओं का सैलाब बन जाता है। ये सारे खयाल मैं आज की डायरी में इस लिये लिख रहा हूँ कि मेरे बेचैन दिमाग को कुछ सुकून मिल सके। जब से तुम गई हो, मैं अपने बेचैन दिमाग से संघर्ष कर रहा हूँ। पढा़ई नियमित रूप से नहीं कर पा रहा हूँ। अकसर अपना आपा खो बैठता हूँ। मैं वह सब करने की कोशिश तो करता हूँ, जो मुझे करना चाहिये, मगर अपने उद्धेश्‍य में सफल नहीं हो पाता। हे भगवान, मुझे शांति, शक्ति और सांत्‍वना दो!

आज रात को मैंने होस्‍टेल में खाना नहीं खाया। तुमसे ‘‘सम्‍पूर्ण जुदाई’’ ने मेरे दिमाग को निराशा के गर्त में धकेल दिया है। मैं ग्‍येवर हॉल गया म्‍यूएन की किताब वापस करने, मगर उसका कमरा बन्‍द था। फिर मैं बूम्‍मी के पास गया। म्‍यूएन की किताब उसके पास छोड़कर वापस होस्‍टेल आ गया।

आज डायरी अपनी इच्‍छा के विपरीत लिख रहा हूँ। ये कठोर, अपठनीय और व्‍यंग्‍यात्‍मक लग सकती है। मैं चाहूँगा कि तुम मुझे माफ कर दो।

अभी भी तुमसे प्‍यार करता हूँ।

Share with:


Charumati Ramdas

I am a retired Associate Prof of Russian. I stay in Hyderabad. Currently keep myself busy with translations of Russian works into HIndi.

Random Posts

Placeholder Image 90

Thewriterfriends.com is an experiment to bring the creative people together on one platform. It is a free platform for creativity. While there are hundreds, perhaps thousands of platforms that provide space for expression around the world, the feeling of being a part of fraternity is often lacking. If you have a creative urge, then this is the right place for you. You are welcome here to be one of us.

Random Posts

सिर्योझा – 9

By Charumati Ramdas | January 30, 2021

लेखिका: वेरा पनोवा अनुवाद: आ. चारुमति रामदास करस्तिल्योव  की हुकूमत   उन्होंने एक गढ़ा खोदा, उसमें खंभा लगाया, लंबा तार खींचा. तार सिर्योझा के आंगन में मुड़ता है और घर की दीवार में चला जाता है. डाईनिंग रूम में छोटी सी मेज़ पर, सिग्नल पोस्ट की बगल में काला टेलिफ़ोन रखा है. ‘दाल्न्याया’ रास्ते पर…

Share with:


Read More

Bill introduced in US Congress to terminate PAKISTAN as major non-NATO ally

By Suresh Rao | January 4, 2021

(pic) Members of the House of Representatives take their oath of office during the first session of the 117th Congress in Washington. Credit: Reuters Photo On the first day of the 117th Congress, a lawmaker has introduced a bill in the US House of Representatives to terminate the designation of Pakistan as a Major non-NATO…

Share with:


Read More

The open door

By Prasad Ganti | March 21, 2021

It was a good sunny day with mild temperature and medium winds.  I planned to fly in a small plane from my home airport to another about 70 nautical miles away. From St. Augustine airport in Florida (airport code SGJ) to Orlando Sanford international airport (airport code SFB) also in Florida. The weather forecast was…

Share with:


Read More

The Presidential transition

By Prasad Ganti | January 21, 2021

A new President has been inaugurated in Washington. The incumbent left grudgingly after creating chaos and pandemonium. Back in 1796, when George Washington transferred power to John Adams, it was the first time in the history of the world that a peaceful transition of power had occurred to another elected representative. Over the course of…

Share with:


Read More

मालकिन – देहातिन

By Charumati Ramdas | August 10, 2020

  लेखक : अलेक्सान्द्र पूश्किन अनुवाद : आ. चारुमति रामदास   हमारे दूर-दराज़ के प्रान्तों में से एक थी जागीर इवान पेत्रोविच बेरेस्तोव की. जवानी में वह फ़ौज में काम करता था, सन् 1797 में निवृत्त होकर वह अपने गाँव चला गया और वहाँ से फिर कभी कहीं नहीं गया. उसने एक ग़रीब कुलीना से ब्याह…

Share with:


Read More

From My Audio & Video Collections….

By Navneet Bakshi | May 16, 2020

I have lived a great part of my life away from home. But that is not unusual. So many  people are doing the jobs where their call of duty demands them to be away from home occasionally for short or long periods. Defense personnel in particular spend a lot of time away from their families,…

Share with:


Read More

CALLERS AT NIGHT

By Navneet Bakshi | December 16, 2020

CALLERS AT NIGHT In 1950s when I was a child, the day routines of the people were synchronized with Sunset and Sun Rise. Our father would strictly adhere to it. After sunset was a curfew hour for us children but that wasn’t necessary because we couldn’t dare to go out to test our liberties at…

Share with:


Read More

Indian American, Dr Vivek Murthy, likely to head Biden’s Corona Task force in USA

By Suresh Rao | November 10, 2020

(photo) Vivek Murthy, MD (Source: PTI, Washington, Nov 08 2020, 11:37 IST updated: Nov 08 2020, 11:38 IST.) Physician of Indian-American/British origin, Dr Vivek Murthy is expected to co-chair the coronavirus task force which President-elect Joe Biden is likely to announce on Monday.  Dr Murthy, 43, originally hails from Karnataka; he was appointed America’s 19th…

Share with:


Read More

वड़वानल – 12

By Charumati Ramdas | July 21, 2020

लेखक: राजगुरू द. आगरकर अनुवाद: आ. चारुमति रामदास   गुरु   को   भी   यही   प्रश्न   सता   रहा   था ।   यूँ   ही   वह   आठ–दस   फुट   दूर   पड़े पत्थर  पर  छोटे–छोटे  कंकड़  मार  रहा  था ।  कुछ  कंकड़  उस  पत्थर  को  लग  जाते, कुछ उसके आसपास गिर जाते । गुरु की धुन में मदन भी उस पत्थर पर…

Share with:


Read More

Vibrant Indian expats celebrate Ganesh festival in Holland with Orange decoration

By Suresh Rao | September 28, 2021

Holland is home to thosands of young Indian expats. Companies like Tata Consultancy Services (TCS,)  Tata Steel, Infosys, Sun Pharma (many other too,) employ highly skilled software engineers who have brought Indian festivities to the delight of natives there! Once a year, the city of Amstelveen, at Amsterdam’s southern end, plays host to a true…

Share with:


Read More