Sign Up    /    Login

*************मेरी प्रेरणा************

*************मेरी प्रेरणा************
मेरी कल्पना की परी तुम
कि मेरी कल्पना के पर
लुप्त हो जाती हो मुझ में ही कहीं तुम
मेरी कविता को देकर स्वर
प्रिय तुम उभरती हो दिल में फिर
श्वासों में घुल-मिल जाती हो
बनती हो तुम गीत मेरा
फिर स्वयं ही उसको गाती हो
मैं केवल माध्यम बन तुम्हारे
अनूठे प्यार के इज़हार को सराहया करता हूँ
और तुम्हारी रचना को
अपनी रचना कह कर सुनाया करता हूँ
झन्न, झनन, झन्न, झन्न
घुंघरुओं की झंकार मुझे सुनाई देती है
कि तुम मेरे मन के आँगन में चलती हो
मेरी आँखों में तुम्हारे प्रेम की चमक है कि
तुम दीपशिखा बन मेरे मन में जलती हो
घटा सी उमड़ आती है याद तुम्हारी
मेरे उर में कविता फिर अंगडाई लेती है
झाँक देखता हूँ मैं अंतर्मन में तो
मुझे छवि तुम्हारी दिखाई देती है
बरसती हो छम-छम
धूप की बारिश सी
फिर छा जाती हो मेरे नभ पर इन्द्रधनुष बन
तुम्हारी यादों को शब्दों में पिरोता रहूँ हरदम
बस यही कहता है मेरा मन
मैं यादों का पिटारा खोलता हूँ
अपनी प्रेम की किताब का हर पन्ना मैं
फिर दोबारा खोलता हूँ
उठाता हूँ याद का एक-एक मोती
पिरोता हूँ, रोता हूँ, सोचता हूँ
कि हर किसी की प्रेरणा
उससे जुदा तो नहीं होती
कितने होंगे भाग्यशाली वे जो
अपनी प्रेरणा को सीने से लगाते हैं
और चूम कर उसके लबों से
प्रेम-रस की कविता चुराते हैं
प्रेम ही तो गाता है हर उर में
अपने प्रेम की ही तो हर कोई कविता सुनाता है
कोई चुराता है चुम्बनों के रूप में प्रिया के लबों से
और कोई यादों की माला बनाता है
शाम जब आती है सिंदूरी साड़ी पहने
मुझे लगता है तुम आई हो वह बात कहने
जिसे तुम कभी कह नहीं पाई
शाम तो तब भी थी बहुत बार आई
हमारे मिलन के पलों को रंगने
सांझ फिर छेड़ देती है वह राग सारे
जो दिए मुझे तुम्हारे संग ने
वही शाम मुझे कहती है रोज़ आकर
जो तुमने कहा था मुझे संकुचा कर
“मैं जा रही हूँ -(किसी और से ब्याह कर)”
तब तुम्हें पता न था और मुझे भी
कि तुम जाकर भी नहीं जा पाओगी
और शाम कि तरह रोज़ मिलने
मुझे सिन्दूरी साड़ी पहने चली आओगी
चांदनी झाँकती है मेरी खिड़की से शीतल
देखती रहती है मेरी आँखों से बहता जल
पसर जाती है बिस्तर पर जैसे तुम
अलसाई सी, आँखें मूंदे
मेरे सीने पर रखती थी सर
और मैं घंटों तुम्हें सहलाया करता था
तुम्हारे रूप की चाँदनी में नहाया करता था
हूँ, हाँ करती थी तुम, प्रेम का दम भरती थी
और मैं तुम्हारे संग
ज़िन्दगी बिताने के ख्वाब सजाया करता था
मगर चाँद भी यहाँ अपना
भाग्य निर्णय नहीं कर पाता
मैं तो फिर
किस गिनती में हूँ आता
जो यादें छोड़ गई थीं तुम
वो मेरी कवितायेँ हैं
मोती हैं झरते मेरी आँखों से
जिन्हें जग देख नहीं पाता
और मैं बैठा उन मोतियों की
मालाएं रहता हूँ बनाता
सराहना के शोर गुल में
जग संग कुछ मैं भी हूँ मुस्कुराता
तुम वास्तव में मेरा अस्तित्व, मेरा वजूद, मेरी हस्ती हो
जिन्दा हूँ मैं क्योंकि तुम, जान मेरी
मेरी जान बन कर मुझ में बसती हो

Share with:


Navneet Bakshi

Placeholder Image 90

Thewriterfriends.com is an experiment to bring the creative people together on one platform. It is a free platform for creativity. While there are hundreds, perhaps thousands of platforms that provide space for expression around the world, the feeling of being a part of fraternity is often lacking. If you have a creative urge, then this is the right place for you. You are welcome here to be one of us.

Random Posts

वड़वानल – 63

By Charumati Ramdas | September 1, 2020

लेखक: राजगुरू द. आगरकर अनुवाद: आ. चारुमति रामदास   पे – ऑफिस के सामने से जाते हुए धर्मवीर और मणी को कोई आवाज़ सुनाई दी। ‘‘ये कैसी आवाज़ है रे ? ’’   धर्मवीर ने पूछा। ‘‘शायद चूहे हैं!’’   मणी ने जवाब दिया। ‘‘ चूहों की इतनी ऊँची आवाज! अरे,  यह चूहा है या हाथी ?’’ …

Share with:


Read More

2020 in review

By Prasad Ganti | January 2, 2021

Wish you all a happy and a prosperous new year 2021. I want to review the events of the past year 2020. I jot the events down as the year is progressing. I might have missed some events and consider some events more important than others. Most would say that 2020 was the most forgettable…

Share with:


Read More

About Biotechnology

By Siri AB | May 31, 2021

Biotechnology is not a new advancement in the area of science. It actually has been utilized for years, but was not significantly described as biotechnology. In its simple form, biotechnology means utilizing living organisms or their products to revise or change human health or the environment, or to run a process. Biotechnology itself is the…

Share with:


Read More

सिर्योझा – 10

By Charumati Ramdas | February 4, 2021

लेखिका: वेरा पनोवा अनुवाद: आ. चारुमति रामदास   आसमान में और धरती पर हो रही घटनाएँ   गर्मियों में तारे नहीं दिखाई देते. सिर्योझा चाहे कभी भी उठे, कभी भी सोए – आँगन में हमेशा उजाला ही रहता है. अगर बादल और बारिश भी हो, तब भी उजाला ही रहता है, क्योंकि बादलों के पीछे…

Share with:


Read More

From Haridwar to Kedarnath

By Namita Sunder | July 17, 2020

By Namita Sunder Friends, here I will be sharing my experiences of Shiva temples visited by us in our country, India during the course of almost 30 years or so. Many landscapes around some of these must definitely have witnessed lot of changes from the time we were there but I feel that makes the…

Share with:


Read More

My Favourite Songs

By Navneet Bakshi | June 24, 2020

When I was in Merchant Navy, I used to be away from home for long periods. I had started my career with The Shipping Corporation of India. It being an Indian Company the Signing On and Off was done when the ships visited the Indian Ports. Since the Company primarily dealt with the Imports and…

Share with:


Read More

National Public Schools – Bengaluru

By Suresh Rao | September 10, 2021

Advertisement National Public Schools (NPS) are a group of private schools for school going children in Bengaluru Urban district. NPS is likely to have a school to pick near your location in Bengaluru Urban district. NPS schools offer primary education (from grade-1 to grade-10) in up and coming newer and fast growing vibrant Bengaluru Urban…

Share with:


Read More

Tumhi mere mandir (you are my temple)

By Prasad Ganti | February 6, 2022

The legendary singer, the cultural icon of India is no more. Lata Mangeshkar has enthralled us over the decades with thousands of melodies.  Encompassing the golden oldies, ghazals, qawwalis, and singing for composers from the legendary era of Naushad to the contemporary era of Rahman. I grew up listening to and humming Lata’s songs. I…

Share with:


Read More

Bill Gates Blog: 2021 will be better than 2020 to address the COVID challenge

By Suresh Rao | December 28, 2020

Richest countries of the world have been financially and physically challenged in 2020 to stop the spread of the Corona pandemic. Pharma companies of Germany, US, Russia, UK and India have put their resources at risk to produce the 3 vaccine candidates readied in record time and quantities to stop the menacing pandemic. New mutants…

Share with:


Read More

वड़वानल – 09

By Charumati Ramdas | July 19, 2020

  लेखक: राजगुरू द. आगरकर अनुवाद: आ. चारुमति रामदास गुरु की ड्यूटी कोस्टल कॉमन नेट पर थी । ट्रैफिक ज़्यादा नहीं था । कॉल साइन ट्रान्समिट हो रही थी । पिछले चौबीस घण्टों में पीठ जमीन पर नहीं टेक पाया था । कल दोपहर को चार से आठ बजे की ड्यूटी खत्म करके जैसे ही…

Share with:


Read More