Sign Up    /    Login

प्रार्थना गीत

 

लेखक: मिखाइल बुल्गाकव

अनुवाद: आ.चारुमति रामदास

 

पहले तो ऐसा लगा जैसे कोई चूहा दरवाज़ा खुरच रहा हो. मगर एक बड़ी शराफ़त भरी मानवीय आवाज़ सुनाई दी:

“अन्दर आ सकता हूँ?”

“बिल्कुल, आइए.”

दरवाज़े के कब्ज़े गाते हैं.

“आ जा और दीवान पर बैठ जा!”

(दरवाज़े से) – “और मैं लकदी के फल्स पर चलूँगा कैसे?”

“तू धीरे-धीरे आना, फिसलते हुए मत चलना. तो…क्या ख़बर है?”

“कुस नई.”

“माफ़ कीजिए, और आज सुबह कॉरीडोर में कौन चीख रहा था?”

(बोझिल ख़ामोशी) – मैं चिल्ला रहा था.”

“क्यों?”

“मुज़े मम्मा ने ज़ापड मारा था.”

“किसलिए?”

(तनावभरी ख़ामोशी) – “मैंने सूर्का का कान कात लिया.”

“तभी.”

“मम्मा कहती है कि सूर्का – बदमास है. वो मुझे चिढ़ाता है; पैसे छीन लिए.”

“चाहे जो भी हो, ऐसा कोई कानून नहीं है कि पैसों की वजह से लोगों के कान काट लिए जाएँ. तुम, ऐसा लगता है, कि बेवकूफ़ बच्चे हो.”

(अपमान) – “मैं तुम्हारे साथ नहीं रहूँगा.”

“ज़रूरत भी नहीं है.”

(अंतराल) – “पापा आएँगे, मैं उन्हें बताऊँगा. (अंतराल) वो तुम्हें गोली मार देंगे.”

“आह, तो ऐसी बात है. तो फिर मैं चाय भी नहीं बनाऊँगा.”

“नहीं, तुम साय बनाओ.”

“और, तुम मेरे साथ पिओगे?”

“चॉकलेट के सात? हाँ?”

“बेशक.”

“पिऊँगा.”

पालथी मारे दो मानवीय आकृतियाँ बैठी हैं – बड़ी और छोटी. संगीतमय आवाज़ में केटली उबल रही है, और गरम प्रकाश का एक शंकु जेरोम वाले पृष्ठ पर पड़ रहा है.

“कविता तो तुम, शायद, भूल गए होगे?”

“नई, नई भूला.”

“तो, सुनाओ.”

“ख…खरीदूँगा अपने लिए जूते…”

“फ्रॉक-कोट के लिए”

“फ्रॉक-कोत के लिए और गाऊँगा लातों में…”

“स्तुति-गीत”

“स्तुति-गीत…और पालूँगा….अपने लिए कुत्ता…”

“को…”

“को…ई…बात…नई…”

“किसी तरह जी लेंगे”

“किसी तलह, जी…लें…गे.”

“बिल्कुल ठीक. चाय उबलेगी, पी लेंगे. जी लेंगे. (गहरी साँस) – जी…ले…लें…गे.”

घंटी. जेरोम. भाप. शंकु. चमकता फर्श.

“तुम अकेले हो.”

जेरोम फर्श पर गिर जाता है. पन्ना बुझ जाता है. (अंतराल) – “ये तुमसे आख़िर कहा किसने?”

(शांतिपूर्ण स्पष्टता) – “मम्मा ने.”

“कब?”

“तुम्हाली बतन जब सी लई थी. सी लई है, सी लई है, सी लई है और नतास्का से कह लई है…”

“च् च्. रुको, रुको, घूमो मत, वर्ना मैं तुम पर चाय गिरा दूँगा…ऊफ!”

“गलम है, ऊफ!”

“चॉकलेट जोनसी चाहिए वोनसी ले लो.”

“ये, मैं ये बली वाली लूँगा.”

“फूंक मार, फूँक़ मार, और पैर मत हिला.”

(स्टेज के पीछे से महिला की आवाज़)- “स्लाव्का!”

दरवाज़ा खटखटाता है. कब्ज़े प्रसन्नता से गाते हैं.

“ये फिर तुम्हारे पास आ गया. स्लाव्का, घर चलो!”

“नई, नई, हम इसके साथ साय पी रहे हैं!”

“इसने थोड़ी देर पहले ही तो पी है.”

(शांत भण्डाफोड़) – “मैंने नई पी.”

“वेरा इवानव्ना, आइए चाय पीने.”

“धन्यवाद, मैंने थोड़ी ही देर पहले…”

“आइए, आइए, मैं आपको छोडूँगा नहीं…”

“हाथ गीले हैं…मैं कपड़े सुखा रही हूँ…”

(बिनबुलाया रक्षक) – “मेरी मम्मा को छूने की हिम्मत न करना.”

“अच्छा, ठीक है, खींचूँगा नहीं…वेरा इवानव्ना, बैठिए…”

“रुकिए, मैं कपड़े फैला दूँ, फिर आऊँगी.”

“बढ़िया. मैं लैम्प नहीं बुझाऊँगा.”

“और तू, स्लाव्का, जब चाय पी ले, तो घर आ जाना. सोने का टाइम हो गया. ये आपको तंग करता है.”

“मैं तंग नई कलता. मैं सलालत नई कलता.”

कब्ज़े बेसुरी आवाज़ में गाते हैं. शंकु अलग-अलग दिशाओं में. केतली गुमसुम है.

“तुम सोना चाहते हो?”

“नई, मैं नई साहता. तुम मुजे कहानी सुनाओ.”

“मगर तुम्हारी आँखें तो छोटी-छोटी हो गई हैं.”

“नई. सोती-सोती नई, कहो.”

“अच्छा, इधर आओ. सिर यहाँ रखो. ऐसे. कहानी? कौन-सी कहानी सुनाऊँ? हाँ?”

“लड़के की, उस वाले…”

“लड़के की? ये तो दोस्त, मुश्किल कहानी है. खैर, तुम्हारे लिए मुश्किल ही सही. तो, ऐसा था, कि एक लड़का रहता था. हाँ…छोटा-सा बच्चा, करीब चार साल का. मॉस्को में. मम्मा के साथ. और इस बच्चे का नाम था स्लाव्का.”

“हूँ, हूँ…जैसे की मेला है?”

“काफी ख़ूबसूरत था, मगर अफ़सोस की बात ये थी कि वह बड़ा झगडालू-मरखणा था. और वह हर चीज़ से मारता था; मुक्कों से, और पैरों से, और गलोशों से. और एक बार उसने सीढ़ियों पर 8 नम्बर वाली लड़की के, बहुत अच्छी लड़की थी, ख़ामोश, खूबसूरत, तो उस लड़की के सिर पर किताब दे मारी.”

“वह ख़ुद ही झगड़ती है…”

“रुको, ये तुम्हारे बारे में बात नहीं हो रही है.”

“दूसरा स्लाव्का है?”

“बिल्कुल दूसरा है. तो मैं कहाँ रुका था? हाँ…तो, ज़ाहिर है कि इस स्लाव्का की हर रोज़ धुलाई होती थी, क्योंकि झगड़ा करने की इजाज़त तो नहीं ना दी जा सकती. मगर स्लाव्का के झगड़े कम ही नहीं होते थे. और बात यहाँ तक पहुँची कि एक दिन स्लाव्का शूर्का से लड़ पड़ा, जो ऐसा ही बच्चा था, और, बिना कुछ सोचे-समझे दाँतों से उसका कान पकड़ कर खींचा, और आधा कान ही गायब हो गया. कितना हँगामा हो गया…शूर्का चीख रहा है; स्लाव्का की पिटाई हो रही है, वह भी चिल्ला रहा है…किसी तरह से शूर्का का कान सिंथेटिक मरहम से चिपकाया गया और स्लाव्का को, ज़ाहिर है, कोने में खड़ा कर दिया गया…और अचानक – घण्टी. और अचानक एक अनजान आदमी, बड़ी-भारी लाल दाढ़ी वाला, नीला चश्मा पहनकर आता है और मोटी आवाज़ में पूछता है: “माफ़ कीजिए, यहाँ कोई स्लाव्का रहता है?” स्लाव्का जवाब देता है, “ये मैं हूँ – स्लाव्का.” “अच्छी बात है,” वह कहता है, “स्लाव्का, मैं – मैं सारे मरखणे बच्चों का इंस्पेक्टर हूँ, और मुझे तुमको, आदरणीय स्लाव्का को, मॉस्को से निकाल देना पड़ेगा. तुर्किस्तान में.” स्लाव्का देखता है कि बात तो बिगड़ गई है, और सच्चे दिल से माफ़ी माँगता है. “कबूल करता हूँ,” वह कहता है, “कि मैंने मार-पीट की, और सीढ़ियों पर पैसों से खेला था, और मम्मा से झूठ भी बोला – कहा कि नहीं खेला था…मगर आगे से यह सब नहीं होगा, क्योंकि मैं नई ज़िन्दगी शुरू कर रहा हूँ.”

“ठीक है,” इंस्पेक्टर बोला, “ये और बात है. तब तो तुम्हें सच्चे दिल से गुनाह कबूल करने के लिए इनाम देना चाहिए.” और वह फ़ौरन स्लाव्का को इनामों वाले गोदाम में ले गया. और स्लाव्का देखता है कि वहाँ तो बहुत सारी नई-नई चीज़ें हैं: वहाँ गुब्बारे हैं, और मोटर गाड़ियाँ हैं, और हवाई जहाज़ हैं, और धारियों वाली गेन्दें हैं, और साइकिलें हैं, और ड्रम्स हैं. और इंस्पेक्टर कहता है, ‘जो तुम्हारा दिल चाहे वो ले लो.’ मगर स्लाव्का ने कौन सी चीज़ उठाई ये मैं भूल गया.”

(मीठी, उनींदी, गहराई आवाज़) – “साइकिल!”

“हाँ, हाँ, याद आया, – साइकिल. और स्लाव्का फौरन साइकिल पर बैठ गया और सीधे भागा कुज़्नेत्स्की पुल की ओर…भाग रहा है, और भोंपू बजा रहा है, और लोग खड़े हैं फुटपाथ पर, अचरज कर रहे हैं: ‘वाह, लाजवाब इंसान है, ये स्लाव्का. और, वह बस के नीचे कैसे नहीं आ रहा ?” मगर स्लाव्का सिग्नल मारता है और गाड़ीवानों पर चिल्लाता है, “सीधे, सम्भल के!” गाड़ीवान उड़ते हैं, कारें उड़ती हैं, स्लाव्का जोश में है, और सामने से आते हैं सिपाही – मार्च की धुन बजाते हुए, ऐसी कि कानों में झनझनाहट होने लगती है…”

“अभी से?…”

कब्ज़े गाते हैं. कॉरीडोर. दरवाज़ा, गोरे-गोरे हाथ, कुहनियों तक खुले हुए.

“हे भगवान. लाइए, मैं इसके कपड़े उतार दूँ.”

“आइए ना. मैं इंतज़ार कर रहा हूँ.”

“देर हो गई.”

“नहीं, नहीं…मैं कुछ सुनना नहीं चाहता.”

“अच्छा, ठीक है.”

प्रकाश के शंकु. घंटियाँ बजने लगती हैं. बत्ती के ऊपर. जेरोम की ज़रूरत नहीं – वह फर्श पर पड़ा है. केरोसीन लैम्प की माइका की खिड़की में छोटा-सा, प्यारा-सा नर्क है. रातों को स्तुति-गीत गाया करूँगा. किसी तरह जी लेंगे. हाँ, मैं अकेला हूँ. चर्च-गीत नैराश्यपूर्ण है. मैं जीना नहीं जानता. जीवन में सर्वाधिक पीड़ादायक चीज़ है – बटन. वे टूट जाती हैं, गिर जाती हैं, जैसे सड़ जाती हों. कल जैकेट की एक गिर गई. आज एक गिरी कोट की, और एक पैण्ट की – पिछली वाली. मैं बटनों के साथ जीना नहीं जानता, फिर भी जिए जाता हूँ और सब समझता हूँ. वह नहीं आएगा. वह मुझे गोली नहीं मारेगा. वह तब कॉरीडोर में नताश्का से कह रही थी: “जल्दी ही पति वापस लौटेगा और हम पीटर्सबुर्ग चले जाएँगे.” वह कोई आने-वाने वाला नहीं है. वह वापस नहीं आएगा, मेरा यकीन कीजिए. सात महीनों से वह नहीं है, और तीन बार मैंने यूँ ही देखा कि वह रो रही है. आँसू, जानते तो हैं, छुपा नहीं सकते. मगर उसने बहुत कुछ खो दिया है, क्योंकि वह इन गोरे-गोरे, गर्माहटभरे हाथों को छोड़कर चला गया. ख़ैर, ये उसका मामला है, मगर मैं समझ नहीं पाता कि वह स्लाव्का को कैसे भूल सकता है…

कितनी प्रसन्नता से गा उठे कब्ज़े…

शंकु नहीं है. माइका की खिड़की में है काली धुँध. चाय की केटली कब की खामोश हो गई है.

लैम्प की रोशनी हज़ारों छोटी-छोटी आँखों से विरल, मोटे, चमकीले लैम्प-शेड से झाँक रही है.

“आपकी उँगलियाँ बड़ी शानदार हैं. आपको पियानो-वादक होना चाहिए.”

“हाँ, जब पीटर्सबुर्ग जाऊँगी, तो फिर से बजाऊँगी…”

“आप पीटर्सबुर्ग नहीं जाएँगी. स्लाव्का की गर्दन पर वैसे ही घुँघराले बाल हैं, जैसे आपके हैं. और मुझे बहुत दुःख है, जानती हैं. इतनी उकताहट है, भयानक उकताहट.”

जीना नामुमकिन है. चारों ओर बटन्स हैं, बटन्स, बट…

“मत चूमिए मुझे…मत चूमिए…मुझे जाना है. देर हो गई है.”

“आप नहीं जाएँगी. आप वहाँ रोने लगेंगी. आपकी ये आदत है.”

“गलत. मैं रोती नहीं हूँ. आपसे किसने कहा?”

“मैं खुद ही जानता हूँ. मैं देखता हूँ. आप रोती रहेंगी, और मेरे लिए है पीड़ा…पीड़ा…”

“मैं क्या कर रही हूँ….आप क्या करेंगे…”

शंकु नहीं हैं. विरल सैटिन के बीच से लैम्प नहीं चमक रहा है. धुँध. धुँध.

बटन्स नहीं हैं. मैं स्लाव्का के लिए साइकिल खरीदूँगा. अपने फ्रॉक-कोट पर अपने लिए जूते नहीं खरीदूँगा, रातों को स्तुति-गीत नहीं गाऊँगा. कोई बात नहीं, किसी तरह जी लेंगे.

 

*******

 

Share with:


5 1 vote
Article Rating

Charumati Ramdas

I am a retired Associate Prof of Russian. I stay in Hyderabad. Currently keep myself busy with translations of Russian works into HIndi.
2 Comments
Newest
Oldest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Navneet Bakshi
23 days ago

I could not understand this शंकु नहीं हैं.. You are a very skilled translator. The characters come live in your translations and the nuances of the language are retained. तोतली भाषा को दूसरी भाषा में सजीव करना एक अनूठी कला का प्रदर्शन है | मुझे खेद है कि मैं अभी तक इस वेब साईट को लोकप्रीय नहीं कर सका | प्रयत्न जारी है, हिम्मत अभी तो नहीं हारी | अड़चने बहुत हैं उनमें एक कोविड भी शामिल हो गई है, पर फिर भी उम्मीद अभी बाकी है | वैसे आप ने तोतली भाषा में प्रसंग लिखा कैसे है? एक एक शब्द के लिए संघर्ष करना पड़ा होगा | आपकी लग्न को मैं नमन करता हूँ |  

Random Posts

Placeholder Image 90

Thewriterfriends.com is an experiment to bring the creative people together on one platform. It is a free platform for creativity. While there are hundreds, perhaps thousands of platforms that provide space for expression around the world, the feeling of being a part of fraternity is often lacking. If you have a creative urge, then this is the right place for you. You are welcome here to be one of us.

Random Posts

Flipping through fictitious journal

By Gopalakrishnan Narasimhan | September 1, 2020 | 2 Comments

  10th Jan1984: Appa screamed at me that is nothing new. But he did it in front of all in the tenants. Even she was there! “If you keep scoring only this much, you can land up only to clean the tables at a Udipi Hotel.” Is securing 75% too less? I am perplexed. What would have she thought of me?   12th Feb’84:…

Share with:


Read More

Enroute to Pahalgam – Amarnath Yatra (2011) – Part 1

By ishanbakshi | July 14, 2020 | 4 Comments

This blog post is a part of series “Amarnath Yatra 2011” which I undertook with my cousins in the summer of 2011. After almost 18 hours of bus ride from chandigarh to Jammu-Kashmir we reached our first stop Pahalgam.   a lot of people brought their home cooked food (mostly biryani) and were seen enjoying…

Share with:


Read More

वड़वानल – 66

By Charumati Ramdas | September 5, 2020 | 0 Comments

लेखक: राजगुरू द. आगरकर अनुवाद: आ. चारुमति रामदास   खान और उसके साथी फॉब हाउस से बाहर निकले। पूरे वातावरण पर हताशा छाई थी। चारों ओर जानलेवा ख़ामोशी थी। पिछले तीन दिनों से उस भाग के सभी व्यवहार ठप  पड़े  थे । बीच में  ही  सेना  का  एकाध  ट्रक  वातावरण  की  शान्ति को भंग करते…

Share with:


Read More

शरद पूर्णिमा

By Alka Kansra | October 31, 2020 | 2 Comments

Happy Sharad Purnima. शरद पूर्णिमा शरद पूर्णिमा की रात लक्ष्मी जन्म की रात आसमान में पूरा चाँद सोलह कला सम्पूर्ण चाँद धरती को स्पर्श करता चाँद अमृत बरसाता मंद मंद मुसकाता चाँद तभी तो कृष्ण ने रचाया राधा संग महारास Alka Kansra Share with: 5 1 vote Article Rating

Share with:


Read More

Not Many More Miles To Go

By ishanbakshi | June 25, 2020 | 6 Comments

Miles to Go- or so it seemed to me when I started working on the idea of bringing my own website back to life. Maybe some of you remember that this idea of having my own website had occurred to me when I in 2015 when I was in China. At that time because my…

Share with:


Read More

Bollywood- The Big Flotsam

By Navneet Bakshi | September 9, 2020 | 5 Comments

Rhea Charaborty’s arrest hasn’t come as a surprise, but it certainly is not the last one. Calling it a tip of the iceberg may sound somewhat clichéd, but how else should I say it? I don’t have the skill of Shashi Tharoor and Shashi Tharoor won’t say it. Why, should we single out someone and…

Share with:


Read More

वड़वानल – 55

By Charumati Ramdas | August 25, 2020 | 0 Comments

लेखक: राजगुरू द. आगरकर अनुवाद: आ. चारुमति रामदास गॉडफ्रे मुम्बई में आया है इस बात का सैनिकों को पता चला तो वे मन ही मन खुश हो गए । ‘‘ब्रिटिश सरकार को हमारे विद्रोह के परिणामों का ज्ञान होने के कारण ही उन्होंने नौसेना दल के सर्वोच्च अधिकारी को मुम्बई भेजा होगा ।’’ पाण्डे ने…

Share with:


Read More

How my 60th birthday was celebrated in Aa Me Ri Ca

By Suresh Rao | October 1, 2020 | 8 Comments

I went back in time to mull over the shocker of a birthday I had to encounter when a nephew of mine organized it without telling me, in my own home! This enterprising nephew who was pursuing a PhD program in electrical engineering at a nearby University campus, would occasionally drop by late at night…

Share with:


Read More

Cautious optimism

By Prasad Ganti | May 15, 2021 | 3 Comments

Towards the end of 2020, Indian cricket team was playing test cricket in Australia. It played the first innings of the first test well. In the second innings, however, India collapsed for 36 runs and lost the test match. The current second wave of the Covid 19 virus in India has resulted in such a…

Share with:


Read More

Shaving Sessions

By Hemant Chopra | February 20, 2021 | 2 Comments

One of the most enduring memories of my child hood were scraping, probing, groaning and blood letting sessions that grandpa undertook which could loosely be describes as having a shave. The whole tedium started with gathering all the implements of ordeal and stacking them on a table outside in sun. A convex mirror was of…

Share with:


Read More
2
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x